- अवैध रूप से संचालित हो रही हैं खटलापुरा पर नाव

- कमेटी तो बनी पर न संचालन रुका न नियम बना पाए

भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि

राजधानी के सभी तालाबों में संचालित हो रही अवैध नावों के संचालन पर रोक लगाने और कमेटी बनाने के लिए जुलाई 2019 में झील संरक्षण प्रकोष्ठ के सिटी इंजीनियर ने निगम अधिकारियों को नोटशीट भेजी एक नोटशीट सामने आई है। यह नोटशीट बताती है कि इस घटना के पीछे नगर निगम की आपराधिक लापरवाही भी बड़ी जिम्मेदार है। तालाबों पर अवैध रूप से नावों का संचालन हो रहा है और निगम अभी तक इनके संचालन के नियम तैयार नहीं कर सका है।

घटना के बाद सामने आई नोटशीट में कहा गया था कि इन नावों के संचालक सुरक्षा के इंतजाम नहीं करते हैं, जिससे दुर्घटना की आशंका है। नोटशीट में कहा गया था कि इनका पंजीयन कराने, मासिक शुल्क लेकर तीन सदस्यीय कमेटी बनाना उचित होगा। कमेटी इन नावों के संचालन के नियम तैयार करेगी। उस दौरान झील संरक्षण प्रकोष्ठ को देख रहे अपर आयुक्त कमल सोलंकी ने इस प्रस्ताव को एमआईसी को भेजा था। एमआईसी में प्रस्ताव पारित कर कमेटी भी बनाई गई, लेकिन नियम नहीं बन पाए। वर्तमान में झील संरक्षण प्रकोष्ठ का जिम्मा अपर आयुक्त पवन सिंह के पास है। सिंह का कहना है कि उनके समय का मामला नहीं है, लिहाजा इस मामले की जानकारी उन्हें नहीं है। यदि अवैध नावों पर कार्रवाई हो जाती और नियम से संचालन होता तो इतनी बड़ी लापरवाही रोकी जा सकती थी।

------