- यात्रियों का स्वागत, 75 यात्री रवाना हुए, बैरागढ़ में आईआरसीटीसी ने बुकिंग काउंटर खोला

संत हिरदाराम नगर। नवदुनिया प्रतिनिधि

आईआरसीटीसी द्वारा संचालित काशी-महाकाल एक्सप्रेस का पहले दिन संत हिरदाराम नगर स्टेशन पर पुष्पवर्षा के साथ स्वागत किया गया। राजधानी के 75 यात्री तीर्थयात्रा पर रवाना हुए। ट्रेन पहुंचते ही स्टेशन परिसर हर-हर महादेव के जयकारों से गूंज उठा।

सांसद साध्वी प्रज्ञासिंह ठाकुर, विधायक रामेश्वर शर्मा एवं मप्र आवास संघ के पूर्व अध्यक्ष सुशील वासवानी की अगुवाई में यात्रियों का स्वागत किया गया। यात्रियों को सीट पर ही प्रसाद के रूप में लड्डू मीठे चावल, चने और आलू की टिकिया बांटी गई। ट्रेन आने से पहले ही स्टेशन पर बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता, विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारी पहुंच गए थे। भजन-कीर्तन चलता रहा। ट्रेन दोपहर 3.05 बजे बजे प्लेटफार्म नंबर एक पर पहुंची। ट्रेन के लोको पायलट एवं गार्ड का सम्मान किया गया। इस मौके पर कपड़ा संघ के अध्यक्ष कन्हैया इसरानी, दिनेश वाधवानी, राम बंसल, पृथ्वीराज त्रिवेदी, नितेश लाल, रेल सुविधा संघर्ष समिति के अध्यक्ष परसराम आसनानी एवं राजेश बेलानी सहित बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

सांसद ने कहा भोपाल के लिए बड़ी सौगात

सांसद प्रज्ञासिंह ठाकुर ने इस मौके पर कहा कि काशी-महाकाल ट्रेन भोपाल के लिए एक ब़ड़ी सौगात है। ट्रेन एक उपहार है। धार्मिक के साथ आर्थिक लाभ मिलेगा। प्राइवेट ट्रेन का कर्मचारी विरोध क्यों कर रहे हैं, इस सवाल के जवाब में साध्वी ने कहा कि ट्रेन किसी के अहित में नहीं है। विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि ट्रेन चलाना सराहनीय कदम है।

स्टेशन पर तत्काल बुकिंग काऊंटर खुला

आईआरसीटीसी के प्रभारी अधिकारी राहुल हिमालयिन ने बताया इस ट्रेन में सीट बुकिंग आईआरसीटीसी की अधिकृत वेबसाइट के माध्यम से ही होगी। तत्काल टिकट के लिए संत हिरदाराम नगर स्टेशन पर ट्रेन आने के चार घंटे पहले बुकिंग काउंटर खोला जाएगा। पहले दिन संत हिरदाराम नगर स्टेशन से 75 यात्री विभिन्न शहरों की ओर रवाना। इनमें से 10 यात्रियों ने स्टेशन पर आकर ही टिकट बुक कराया। ट्रेन से जा रहे यात्री प्रसन्न नजर आए।

---

काशी-महाकाल एक्सप्रेस शुरू होने की खबर सुनकर हमनें पहले दिन की ट्रेन से बुकिंग कराने का निर्णय लिया। बनारस में विवाह समारोह था। परिवार सहित पहली ट्रेन में जाने से खुशी हो रही है।

- आशीष पांडेय, निवासी नेहरू नगर परिवार के साथ बनारस रवाना हुए।

---

लंबे समय से काशी विश्वनाथ जाने की इच्छा थी। ट्रेन ने हमारा सपना पूरा कर दिया है। संयोग से मेरी बहिन सोनाली को कानपुर जाना था। वह भी मेरे साथ चल रही है। दोनों काम एक साथ हो गए।

- देवेंद्र जायसवाल, खातेगांव निवासी, बहिन सोनाली के साथ रवाना

---

मुझे इंदौर से लखनऊ जाना था। बुकिंग के समय लग रहा था किराया अधिक है पर सुविधाएं देखकर लग रहा है किराया वसूल हो गया है। हम कंफर्ट महसूस कर रहे हैं। खाना भी अच्छा है।

- अभिषेक शुक्ला, यात्री इंदौर से लखनऊ

---

प्राइवेट ट्रेन चलाने का निर्णय सराहनीय है। किराए के अनुसार सुविधाएं भी हैं। यात्री अच्छी सेवाएं चाहते हैं तो खर्च तो करना ही पड़ेगा। इंदौर से वाराणसी जा रहा हूं। संत हिरदाराम नगर स्टेशन तक का सफर आरामदायक रहा है।

- विनोद शर्मा, यात्री इंदौर से वाराणसी

फोटो- काशी-महाकाल एक्सप्रेस के लोको पायलट व गार्ड का सांसद-विधायक ने सम्मान किया।

- संत हिरदाराम नगर स्टेशन पर आईआरसीटीसी ने तत्काल बुकिंग काउंटर खोला है।

- आशीष पांडेय यात्री परिवार के साथ

- देवेंद्र जायसवाल, खातेगांव निवासी, बहिन सोनाली के साथ।

- अभिषेक शुक्ला, यात्री इंदौर से लखनऊ

-विनोद शर्मा, यात्री इंदौर से वाराणसी

प्राइवेट ट्रेन का विरोध, कांग्रेस ने कहा-कर्मचारी बेरोजगार होंगे

संत हिरदाराम नगर। नवदुनिया प्रतिनिधि

कांग्रेस ने प्राइवेट ट्रेन चलाने का विरोध किया है। जिला योजना समिति के सदस्य एवं वरिष्ठ नेता नरेश ज्ञानचंदानी ने कहा है कि रेलवे को काशी-महाकाल ट्रेन के साथ केंद्र सरकार ने रेलवे को निजी हाथों में सौंपने की शुरूआत कर दी है। इस निर्णय से रेल कर्मचारियों की दिक्कते बढ़ेंगे। सरकार को कर्मचारियों का दर्द महसूस नहीं हो रहा है। भविष्य में युवाओं को नौकरी नहीं मिलेगी। श्री ज्ञानचंदानी ने कहा कि इंदौर में काशी-महाकाल एक्सप्रेस को प्राइवेट ट्रेन के रूप में चलाने का कर्मचारियों ने विरोध किया है। कांग्रेस कर्मचारियों के साथ है। रेलवे को इस ट्रेन का संचालन रेल कर्मचारियों के हाथों में ही सौंपने की मांग की है।

Posted By: Nai Dunia News Network