भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। गांधी मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) के पीजी गर्ल्स हॉस्टल में शनिवार तड़के पौने पांच बजे घुसे एक लुटरे ने डॉक्टर के गले में पेचकस अड़ाकर लूट की। उसने 15 हजार नकद व एक मोबाइल लूट लिया। डर के कारण डॉक्टर ने चुपचाप पैसे व मोबाइल दे दिए। इसके बाद उसने पेचकस की नोक पर अश्लील हरकत करने की कोशिश की, हालांकि छात्रा के चिल्लाने पर वह खिड़की से कूदकर भाग गया। घटना के बाद एमबीबीएस व पीजी के छात्र-छात्रा आग-बबूला हो गए। उन्होंने प्रदर्शन कर परिसर में सुरक्षा बढ़ाने व लुटेरे को गिरफ्तार करने की मांग की। जूडा ने भी सुबह 8 बजे से ही काम बंद कर दिया था, जिससे मरीजों को काफी परेशानी हुई। मामले की एफआईआर कोहेफिजा थाने में दर्ज कराई गई है।

घटना कमला नेहरू अस्पताल के पास एच ब्लॉक छात्रावास (महिला) की है। भूतल समेत चार मंजिला इस छात्रावास में पीजी छात्र, इंटर्न और तीन कंसलटेंट रहते हैं। शनिवार तड़के करीब 4ः45 बजे एक लुटेरा दूसरी मंजिल पर मेडिकल छात्रा के कमरे में घुस गया। यह छात्रा शिशु रोग विभाग में पीजी तृतीय वर्ष में पढ़ाई करती है। उसने बताया कि कमरे में वह अकेली रहती है। दरवाजा बंद करके सो रही थी तभी खिड़की की ग्रिल निकालकर लुटेरा कमरे में घुस गया। उसने सबसे पहले मोबाइल मांगे। छात्रा ने मोबाइल उसे दे दिए। इसके बाद नकदी मांगी। छात्रा ने बताया कि थीसिस वर्क के लिए 15 हजार रुपए रखे थे जो डर के चलते लुटेरे को दे दिए। इसके बाद उसने अश्लील हरकत करने की कोशिश की तो वह चिल्लाई। इस दौरान लुटेरे का पेचकस भी छात्रा के हाथ लग गया। वह पेचकस लेकर उसकी तरफ दौड़ी। छात्रा का कहना है कि वह खिड़की के रास्ते से भाग गया।

घटना के बाद छात्रों का गुस्सा कॉलेज प्रबंधन के प्रति फूट पड़ा। छात्रों ने बताया कि सालभर में 11 बार इसी तरह हॉस्टल में चोरी की घटनाएं हो चुकी हैं। शुक्रवार सुबह भी तीसरी मंजिल पर रहने वाली पीजी प्रथम वर्ष की एक छात्रा के मोबाइल व 15 हजार रुपए भी चोरी हो गए थे। दो साल पहले भी कुछ छात्राओं ने तत्कालीन डीन डॉ. एमएसी सोनगरा से परिसर में असामाजिक लोगों द्वारा छेड़छाड़ की शिकायत की थी। छात्रों ने कहा कि डीन, वार्डन व अन्य अधिकारियों ने चोरी व अन्य शिकायतों को गंभीरता से नहीं लिया, जिससे लूट की घटनाएं होने लगीं। प्रदर्शन के दौरान कुछ छात्र-छात्राएं भावुक होकर रो पड़े। पीड़ित छात्रा के परिजन भी कॉलेज पहुंच गए थे। बता दें कि इस छात्रावास में करीब 300 छात्राएं रहती हैं।

डीन बोलीं आपकी भावनाएं समझते हैं, छात्र बोले बिल्कुल नहीं समझतीं

आक्रोशित छात्र-छात्राएं दोपहर करीब 12ः30 बजे सभागार में एकत्र हो गए। इसके बाद कॉलेज के दो प्रोफेसर छात्रों के प्रतिनिधिमंडल को बुलाने आए, पर छात्रों ने जाने से मना कर दिया। इसके बाद डीन डॉ. अरुणा कुमार सभी विभाग प्रमुखों के साथ सभागार में पहुंचीं। डीन को देखते ही छात्रों ने उनके विरोध में नारेबाजी शुरू कर दी। छात्र डीन व वार्डन के इस्तीफे की मांग करने लगे। जूडा प्रतिनिधियों के समझाने के बाद छात्र शांत हुए तो डीन ने बोलना शुरू किया। उन्होंने कहा, हम आपकी भावनाएं समझते हैं। छात्रों ने एक स्वर में कहा नहीं समझती। एक छात्र ने यहां तक कहा कि शायद आपकी बेटी नहीं होगी, इसलिए इन बेटियों की पीड़ा नहीं समझ रही हो। छात्रों ने कहा कि मामले को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। इस दौरान प्रदेश जूडा अध्यक्ष डॉ. सचेत सक्सेना ने कहा यह डीन स्तर का मामला नहीं है। सीएम या गृह मंत्री से बात करने के बाद ही हम कोई निर्णय लेंगे।

छह महीने पहले इसी छात्रा के कमरे में हुई थी चोरी, डीन ने कहा था कि प्रॉपर चैनल से आओ

जिस डॉक्टर के साथ लूट की घटना हुई उसी के कमरे में जून में भी चोरी हुई थी। तब डॉक्टर कहीं बाहर गई हुईं थीं। उन्होंने हॉस्टल में आकर देखा तो सामान बिखरा पड़ा था। बैग व अन्य सामान भी गायब था। घटना के बाद उक्त डॉक्टर शिकायत लेकर डीन से मिलने गईं तो डीन ने कहा कि प्रॉपर चैनल से आओ। शनिवार को जब इससे भी बड़ी घटना हुई तो छात्रों ने डीन से मिलने से ही इंकार कर दिया। पीड़ित लड़की बोली, छह महीने पहले आपने मेरी बात को गंभीरता से लिया होता तो फिर यह घटना नहीं होती।

ट्रामा यूनिट, हेड एंजुरी के मरीज का भी नहीं हुआ इलाज

राजग़ढ़ से आए दिनेश भिलाला (25) को एक्सीडेंट के चलते सिर में चोट आई है। उनके बाएं कान से खून निकल रहा था। राजगढ़ में प्राथमिक इलाज के बाद डॉक्टरों ने हमीदिया अस्पताल रेफर कर दिया था। दिनेश के पिता ने बताया कि आधे घंटे से बेटा स्ट्रेचर पर पड़ा है। कोई देख नहीं रहा है। ट्रामा वार्ड के बाहर चार मरीज स्ट्रेचर पर पड़े हुए थे। ट्रामा वार्ड में सिर्फ एक डॉक्टर मौजूद थे। वह एक मरीज को बोल रहे थे हड्डी वाले डॉक्टर अभी हड़ताल पर हैं बाद में आना। घटना की जानकारी मिलते ही जूनियर डॉक्टरों ने सुबह 8 बजे से काम बंद कर दिया था। एमबीबीएस छात्र भी उनके साथ आ गए। सभी ने कॉलेज के सामने इकठ्ठे होकर प्रदर्शन व नारेबाजी की। इसके बाद सभी सभागार में एकत्र हो गए। जूडा ने दो बजे से इमरजेंसी इलाज भी बंद कर दिया, जिससे मरीजों को काफी परेशानी हुई। ट्रामा एवं इमरजेंसी यूनिट में आकस्मिक चिकित्सा अधिकारी समेत दो डॉॅक्टर मौजूद थे, जबकि यहां हर समय 6-7 जूनियर डॉक्टर अलग-अलग विषय के मौजूद रहते हैं।

एच ब्लाक हॉस्टल, एक कैमरा बंद, बाउंड्रीवाल सिर्फ दिखावे की

दोपहर करीब 3 बजे पुलिस-प्रशासन व चिकित्सा शिक्षकों की टीम एच ब्लाक हॉस्टल पहुंची जहां यह घटना हुई है। आम दिनों में यहां एक सुरक्षा कर्मी दोपहर की शिफ्ट में रहता है। घटना के बाद से तीन सुरक्षाकर्मी तैनात थे। छात्रावास में रहने वाली छात्राएं डरी हुई हैं। यहां निगरानी के लिए तीन सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं, पर एक कैमरा खराब है। छात्रावास में बाउंड्रीवाल की ऊंचाई करीब पांच फीट है। यहां लगे पेड़ों की डालियां छात्राओं के बालकनी तक पहुंच रही हैं। पुलिस अफसरों ने डालियां कटवाने व पास में निर्माणाधीन नर्सिंग कॉलेज व छात्रावास के काम में लगे मजदूरों का सत्यापन कराने को कहा है।

पुलिस का पक्ष : सीसीटीवी कैमरे में नहीं दिखा संदिग्ध

सीएसपी नागेंद्र पटेरिया ने बताया कि जीएमसी हॉस्टल में जिस स्थान पर घटना हुई है, वहां काफी दूरी पर अलग-अलग दिशा में 2 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। दूरी अधिक होने से संदिग्ध आरोपित कैमरे की रेंज में नहीं आया। पुलिस ने घटनास्थल से वह पेचकस बरामद किया है, जिससे बदमाश ने डॉक्टर को भयभीत कर वारदात को अंजाम दिया है। पटेरिया ने बताया कि हमीदिया अस्पताल परिसर की सुरक्षा के लिए 300 सुरक्षाकर्मी तैनात हैं, लेकिन किसी भी गार्ड ने आरोपित को हॉस्टल में घुसते समय और वारदात के बाद जाते नहीं देखा। फरियादी डॉक्टर की शिकायत पर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ चोरी का केस दर्ज किया गया है। एफआईआर में डॉक्टर ने 15 हजार रुपए नकद और एक मोबाइल फोन चोरी जाने की जानकारी दी है।

बढ़ाई जाएगी सुरक्षा

डॉक्टर के परिजनों द्वारा शिकायत दर्ज करने में लेटलतीफी करने के आरोप पर सीएसपी पटेरिया ने कहा कि घटना की सूचना मिलते ही कोहेफिजा थाना प्रभारी अमरेश बोहरे थाने पहुंच गए थे। सुबह 7ः30 बजे उन्होंने खुद फरियादी डॉक्टर से घटना के बारे में विस्तृत जानकारी ली थी। हमीदिया अस्पताल परिसर में पुलिस अकसर मौजूद रहती है। वहां अब सुरक्षा को और मजबूत किया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network