भोपाल (नईदुनिया स्टेट ब्यूरो)। आर्थिक तंगी से जूझ रही राज्य सरकार ने कटनी के इमलिया और सिंगरौली के चकरिया में स्थित सोने की खदानें नीलाम कर दी हैं। ये खदानें क्रमश इमलिया खदान प्रोस्पेक्ट रिसोर्स लिमिटेड मुंबई और गरिमा नेचुरल रिसोर्स को चकरिया खदान दी गई हैं। उन्हें आठ जुलाई तक 177 करोड़ रुपये पहली किस्त के रूप में जमा कराने होंगे।

साढ़े छह हेक्टेयर में फैली इमलिया और 23.57 हेक्टेयर में फैली चकरिया खदान की नीलामी पिछले साल की गई थी। तब बोली में एक-एक कंपनी शामिल हुई थीं। इस कारण दोबारा टेंडर बुलाए गए, जिसमें चकरिया खदान के लिए विनायक इंटरप्राइजेज और गरिमा नेचुरल रिसोर्स कंपनी रायपुर छत्तीसगढ़ ने टेंडर डाले थे। जबकि इमलिया खदान के लिए प्रोस्पेक्ट रिसोर्स लिमिटेड मुंबई ने टेंडर डाला था।

खनिज विभाग ने खदानों की न्यूनतम बोली पांच फीसद तय की थी। इसके विरुद्ध इमलिया खदान की बोली साढ़े छह और चकरिया खदान के लिए साढ़े पांच फीसद की दर आई। ज्ञात हो कि इमलिया खदान में 121 करोड़ और चकरिया में 56 करोड़ रुपये का सोना निकलने का अनुमान है।

सोने की कीमत पर लगेगा टैक्स

कंपनियों को खदान से निकलने वाले सोने के मूल्य पर साढ़े पांच और साढ़े छह फीसद की दर पर राशि देना होगी। मसलन 121 करोड़ का सोना निकलता है तो साढ़े छह फीसद की दर से सरकार को कर (टैक्स) देना होगा। इसके अलावा कंपनियों को चार फीसद रॉयल्टी, 10 फीसद डीएमएफ, दो फीसद नेशनल मिनरल एक्सप्लोरेशन फंड में जमा करना होगा।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना