सौरभ सोनी, भोपाल। राज्य सरकार भोपाल और इंदौर शहर के पर्यटन स्थलों की सैर कराने के लिए आठ हो-हो बसें चलाएगी। हो-हो बसें दरअसल होप आन होप आफ बसें होती हैं, जो पूरी तरह वातानुकूलित रहती हैं। इससे पर्यटक गर्मी में भी बिना परेशानी के सफर कर सकते हैं।

दोनों शहरों के लिए ऐसी चार-चार बसें चलाई जाएंगी। दो शहरों में किया जा रहा यह प्रयोग सफल होता है तो प्रदेश के अन्य पर्यटन स्थल वाले शहरों में भी हो-हो बसें चलाने का निर्णय लिया जाएगा। मध्य प्रदेश पर्यटन विकास निगम ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। सेवा प्रदाता कंपनी को एक वर्ष में कम से कम 300 दिनों के लिए बसों का संचालन करना होगा और प्रत्येक दौरे का संचालन करते समय अंतरराष्ट्रीय परिचालन बेंचमार्क का पालन करना होगा।

हो- हो बसों के लिए राज्य सरकार ने पर्यटन निगम के माध्यम से निजी कंपनियों से दरें आमंत्रित करने के लिए टेंडर जारी किए हैं, जो सात दिसंबर को खोले जाएंगे। सेवा प्रदाता कंपनी भोपाल और इंदौर के शहरों में टूर आयोजित करने के लिए प्रत्येक शहर में सर्वोत्तम मार्गों की पहचान करेगी।

हो-हो टूर बसों को शहर के भीतर संचालित करना होगा और इसी परिधि में आसपास के पर्यटन स्थलों को भी कवर करना होगा। इन बसों में वर्तमान बाजार संचालित दरें चार्ज की जाएंगी और केवल कंप्यूटरीकृत, स्वचालित टिकट प्रणाली के माध्यम से टिकटों की बिक्री की जाएगी।

इन स्थलों की सैर कराएगी बसें

हो-हो बसों से इंदौर में खजराना गणेश मंदिर, इंदौर जू, लाल बाग पैलेस, अन्नपूर्णा मंदिर और राजवाड़ा की सैर कराई जाएगी। वहीं भोपाल में बिरला मंदिर, गौहर महल, जनजातीय संग्रहालय, राज्य संग्रहालय, बोट क्लब और मानव संग्रहालय की सैर कराई जाएगी। रोचक बात यह है कि भोपाल के पर्यटन स्थलों में सैर कराने की सूची में वन विहार को शामिल नहीं किया गया है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close