भोपाल नवदुनिया प्रतिनिधि। मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ को दिए गए ‘पद्म श्री’ पुरस्कार को वापस लेने की मांग की, जिन्हें हाल ही में गुजरात पुलिस ने 2002 के गुजरात दंगों के सिलसिले में निर्दोष लोगों को फंसाने के लिए सबूत गढ़ने के मामले में गिरफ्तार किया था।

केंद्र ने 2007 में सीतलवाड़ को विभिन्न क्षेत्रों में लोगों के योगदान को मान्यता देने के लिए देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक पद्म श्री से सम्मानित किया था।

मिश्रा ने मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत में पिछली कांग्रेस सरकार पर अल्पसंख्यकों के तुष्टीकरण के लिए सीतलवाड़ को पुरस्कार देने का आरोप लगाया। “वह ‘पुरस्कार वापसी’ गिरोह (पुरस्कार वापस करने की धमकी देने वालों) की सदस्य थीं। ऐसे लोगों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के मद्देनजर तीस्ता जावेद सीतलवाड़ जैसे लोगों से पुरस्कार वापस लिया जाना चाहिए, जिनका आचरण संदिग्ध हो जाता है और गिरफ्तार कर लिया गया है, ”मंत्री ने कहा, जो राज्य सरकार के प्रवक्ता भी हैं।

गुजरात आतंकवाद निरोधी दस्ते ने शनिवार को सीतलवाड़ को उसके मुंबई स्थित घर से उठाया था। बाद में उसे अहमदाबाद ले जाया गया और वहां की अपराध शाखा को सौंप दिया गया। अहमदाबाद की एक अदालत ने 2002 के गुजरात दंगों के सिलसिले में निर्दोष लोगों को फंसाने के लिए सबूत गढ़ने के मामले में रविवार को सीतलवाड़ को दो जुलाई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया। सुप्रीम कोर्ट ने 2002 के गोधरा दंगों के बाद के मामलों में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य को एक विशेष जांच दल (एसआइटी) द्वारा दी गई क्लीन चिट को चुनौती देने वाली याचिका को शुक्रवार को खारिज कर दिया। सीतलवाड़ और उनका एनजीओ सुप्रीम कोर्ट में मोदी और अन्य के खिलाफ दायर याचिका में जकिया जाफरी (दंगों में मारे गए कांग्रेस नेता एहसान जाफरी की पत्नी) के साथ सह-याचिकाकर्ता थे।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close