Hotspot in Bhopal : भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। भोपालवासियों के लिए एक राहत भरी खबर है। मध्य प्रदेश के सबसे बड़े हॉटस्पॉट जहांगीराबाद में अब संक्रमण धीरे-धीरे कम हो रहा है। विगत एक सप्ताह से इस क्षेत्र में कोई नया मरीज नहीं मिला है। यही स्थिति रही तो एक सप्ताह के अंदर जहांगीराबाद कोरोना मुक्त घोषित किया जा सकता है। वर्तमान में यहां के 30 कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज कोविड केयर अस्पतालों में चल रहा हैं। खास बात यह है कि तीन जून को भोपाल के जहांगीराबाद थाना क्षेत्र में 116 पॉजिटिव मरीज थे। संक्रमित मरीज इतनी तेजी से स्वस्थ हुए कि शुक्रवार की स्थिति में जहांगीराबाद में 30 मरीज ही कोरोना पॉजिटिव बचे हैं। जो एक सप्ताह के अंदर ठीक हो सकते हैं, क्योंकि इसमें से अधिकांश मरीजों को भर्ती हुए 10 दिन पूरे हो रहे हैं। वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइन के अनुसार किसी भी पॉजिटिव मरीज को दस दिन बाद कोविड केयर अस्पतालों से कोरोना मुक्त होने की स्थिति में डिस्चार्ज किया जा सकता है।

इधर, शाहजहांनाबाद में जून की शुरुआत में पॉजिटिव मरीज बढ़ना शुरू हुए थे। जो 25 जून तक बहुत तेजी से बढ़े। अब धीरे-धीरे यहां नए मरीज मिलना कम हो गए हैं। पिछले तीन दिनों से शाहजहांनाबाद में एक भी पॉजिटिव मरीज नहीं मिला है। इस स्थिति में शुक्रवार को यहां महज 37 संक्रमित मरीज ही शेष बचे हैं, जबकि 25 जून को 63 संक्रमित मरीज इस क्षेत्र में हो गए थे।

बता दें कि भोपाल में अनलॉक 2 लागू होने के बाद तीन दिन के अंदर 164 नए पॉजिटिव मरीज मिले हैं। वहीं, 64 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। वर्तमान में 957 मरीज ऐसे बचे हैं, जिनका इलाज कोविड केयर अस्पतालों में हो रहा है।

अब शहर में बचे महज 130 कंटेनमेंट क्षेत्र

भोपाल में कंटेनमेंट क्षेत्रों की संख्या भी अब लगातार घटना शुरू हो गई है। शुक्रवार को शहर में 130 ही कंटेनमेंट क्षेत्र बचे हैं। बता दें कि अनलॉक 1.0 एक जून से लागू होने के बाद एक जुलाई से अनलॉक 2 लागू हो गया है। इस एक महीने में न केवल मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ी, बल्कि कंटेनमेंट क्षेत्र भी तेजी से घोषित हुए हैं। शहर में 8 जून की स्थिति में 166 कंटेनमेंट क्षेत्र थे। 16 जून तक 257 हो गए थे। इस तरह पिछले 18 दिनों में करीब 127 क्षेत्र कंटेनमेंट मुक्त हो गए हैं।

आज से गैस पीड़ितों की बस्तियों में होगा सर्वे

भोपाल में 'किल कोरोना अभियान' के तहत नई 50 बस्तियां चिन्हित की गई हैं। इसमें गैस पीड़ितों की बस्तियों में प्रमुखता से सर्वे किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग की टीम सहित आंगनबाड़ी कार्यकर्ता यहां घर-घर जाकर पिछले एक सप्ताह की जानकारी लेंगी। जरूरत पड़ने पर इनका सैंपल लिया जाएगा। इसी के साथ डेंगू, मलेरिया की रोकथाम के लिए 27 टीमों का गठन किया गया है। जो कि निरंतर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में जाकर मलेरिया और डेंगू की जांच कर प्रभावी कार्रवाई भी करेंगी।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan