- रेरा ने लॉकडाउन के कारण दी बिल्डरों को राहत, 10 से घटाकर 9 प्रतिशत किया जुर्माना

- प्रदेश के करीब 700 बिल्डरों को होगा फायदा

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। लॉकडाउन के कारण रियल एस्टेट प्रोजेक्ट का तय समय पर निर्माण नहीं हो सका है। ऐसे मामलों को लेकर रेरा ने बिल्डरों को राहत दी है। दरअसल, रेरा अब तक तय समय में निर्माण नहीं कर पाने वाले बिल्डरों पर सुनवाई के आधार पर अधिकतम 10 प्रतिशत तक जुर्माना प्रतिकर के रूप में लगाता था। यह जुर्माना भी प्राइम लेंडिंग रेट के आधार पर तय होता है। अब इसे 1 प्रतिशत कम कर 9 प्रतिशत कर दिया गया है।

रेरा के पदाधिकारियों ने बताया कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बीते दिनों रेपो रेट में 0.40 प्रतिशत की कटौती की थी। इस राहत का असर भी रियल एस्टेट सेक्टर व प्राइम लेंडिंग रेट पर पड़ा है। लिहाजा, रेरा प्राधिकरण ने रियल एस्टेट सेक्टर को राहत देने के उद्देश्य से संप्रवर्तक पर नियत समय के बाद आवास अंतरण करने की स्थिति में आरोपित किए जाने वाले प्रतिकर की दर में एक प्रतिशत की कमी की है। इस निर्णय से प्रदेश के करीब 700 बिल्डरों को फायदा होगा। बता दें कि लॉकडाउन के कारण प्रोजेक्टों के प्रभावित हुए कार्य के मद्देनजर पंजीकृत सभी परियोजनाओं को रेरा द्वारा 6 माह की अतिरिक्त अवधि पहले ही दी जा चुकी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना