भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। मप्र शिक्षक कांग्रेस के कार्यकारी प्रांताध्यक्ष एवं संगठन प्रभारी रामनरेश त्रिपाठी के नेतृत्व में मंगलवार को संगठन के प्रांतीय महामंत्री नवनीत चतुर्वेदी, प्रांतीय प्रवक्ता भोपाल जिलाध्यक्ष सुभाष सक्सेना ने मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह से भेंट की। उन्होंने शिक्षकों की समस्याओं के निराकरण को लेकर महत्वपूर्ण विषयों पर गंभीरतापूर्वक चर्चा की। संगठन के पदाधिकारियों ने कहा कि इस कोविड महामारी के दरमियान पूरे प्रदेश के कर्मचारी जगत में सर्वाधिक क्षति शिक्षा विभाग के शिक्षकों की ही हुई है। सरकारी आंकड़े यद्यपि स्पष्ट नहीं हैं, लेकिन सांगठनिक तौर पर प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश में लगभग डेढ़ हजार से अधिक शिक्षकों की मृत्यु हुई है। इन दिवंगत शिक्षकों के परिजनों को अनुकंपा नियुक्ति दिए जाने के सिर्फ भाषण और अति उलझे हुए आदेश ही प्राप्त हुए हैं। किसी को भी वास्तविक रुप से अनुकंपा नियुक्ति या बीमा का लाभ नहीं मिला है। कोविड महामारी से अब शेष बचे हुए शिक्षक वैक्सीन के माध्यम से तो बच जाएंगे, लेकिन मंहगाई रूपी महामारी से अब शिक्षकों को जीवित रह पाना मुश्किल है। इस भीषण मंहगाई और पदोन्नति व क्रमोन्नति आदि के विषयों को भी वर्तमान सरकार सिरे से नजरअंदाज किए हुए है। इसके लिए संगठन ने दिग्विजय सिंह से अनुरोध किया कि वे शिक्षकों की मांग के पक्ष में अपनी आवाज को बुलंद करें।

इस पर दिग्विजय सिंह ने उन्‍हें आश्वासन दिया कि वह शीघ्र ही प्रदेश के मुख्यमंत्री को एक पत्र लिखकर शिक्षकों की समस्याओं के निराकरण के संबंध में आग्रह करेंगे। यदि समयसीमा में शिक्षकों की मांगों की पूर्ति नहीं होती है तो इस विषय को वे राष्ट्रीय स्तर पर देश के उच्च सदन राज्यसभा में रखेंगे। दिग्‍विजय सिंह ने कहा कि शिक्षकों की समस्याओं का निराकरण हमारे लिए पहली प्राथमिकता है।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags