भोपाल। प्रदेश के 33 लाख 12 हजार तेंदूपत्ता श्रमिकों को इस साल प्रति मानक बोरा पांच सौ रुपए ज्यादा मिलेंगे। राज्य सरकार ने पत्ते की खरीदी दर में पांच सौ रुपए प्रति मानक बोरे की वृद्धि की है। इस हिसाब से सरकार इस सीजन में 110 करोड़ रुपए पारिश्रमिक बांटेगी। इन श्रमिकों की मजदूरी में लगातार दूसरे साल वृद्धि हुई है।

विधानसभा चुनाव से पहले (मार्च 2018) भाजपा सरकार ने वोट बैंक को साधने के लिए संग्राहकों की मजदूरी में साढ़े सात सौ रुपए मानक बोरा की वृद्धि की थी। तब कांग्रेस ने भी वोट बैंक को देखते हुए अपने वचन पत्र में मजदूरी बढ़ाने का वादा किया था।

अब सामने लोकसभा चुनाव हैं, इसे देखते हुए सरकार ने मजदूरी पांच सौ रुपए मानक बोरा बढ़ा दी है। एक साल पहले तक 1250 रुपए मानक बोरा मजदूरी पाने वाले मजदूर को अब 2500 रुपए मानक बोरा मजदूरी दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि तेंदूपत्ता संग्रहण वर्ष 2018 में 19 लाख 14 हजार मानक बोरा पत्ता तोड़ा गया है। संग्राहकों को 2000 रुपए प्रति मानक बोरा की दर से 382 करोड़ 80 लाख रुपए पारिश्रमिक का भुगतान किया गया।