भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। महान धार्मिक संत साधु टीएल वासवानी की जन्म जयंती के उपलक्ष्‍य में गुरुवार को संत हिरदाराम गर्ल्‍स कॉलेज में विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान छात्राओं के साथ प्राध्यापकों ने भी मांसाहार त्याग के साथ ही दादा वासवानी का संदेश जीवन में उतारने का संकल्प लिया छात्राओं ने कहा कि हम मूक पशु-पक्षियों पर दया का भाव रखेंगे।

कालेज में साधु वासवानी की जयंती मांसाहार निषेध दिवस के रूप में मनाई गई। इसका मुख्य उद्देश्य छात्राओं को उनके जीवन दर्शन से परिचित करवाना था. महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. डालिमा पारवानी ने कहा कि शरीर की आधारभूत आवश्यकता शाकाहार से पूर्ण होती है। आज के दिन वैज्ञानिक दृष्टिकोण के आधार पर शाकाहार को अपनाकर मांसाहार को त्यागने का प्रण ले। हर विषय पर सभी की राय महत्वपूर्ण होती है, अतः इसे मन से अपनाएं। शाकाहार हमें लम्बे समय तक फुर्तीला एवं ऊर्जावान बनाता है।

शाकाहार अपनाकर सृष्टि के संरक्षण में सहयोग करेंगे

इस अवसर पर उपस्थित समस्त प्राध्यापिकाओं एवं छात्राओं ने मांसाहार का त्याग कर शाकाहार को अपनाने की शपथ ली, ताकि वह सब सृष्टि के संरक्षण में अपना सहयोग कर सके। प्राचार्य ने छात्रों से आग्रह किया कि वे कम से कम दादा वासवानी के जन्मदिन पर मांस का सेवन न करें। वैसे आजीवन शाकाहारी रहना हमारे लिए अच्छा है। इसके अलावा शहीद हेमू कालानी शिक्षण संस्थान, नवनिध हासोमल लखानी गर्ल्स स्कूल एवं मिठी गोविंदराम पब्लिक स्कूल में भी शाकाहार दिवस मनाया गया। संस्थान के उपाध्यक्ष हीरो ज्ञानचंदानी एवं सचिव एसी साधवानी सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राओं एवं शिक्षकों ने शाकाहार अपनाने पर जोर दिया।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local