भोपाल। अंतरराष्ट्रीय विंध्य हर्बल मेला 18 से 22 दिसंबर तक लालपरेड ग्राउंड पर लगाया जा रहा है। मेले में जनता को आकर्षिक करने के लिए कवि सम्मेलन, लॉफ्टर-शो, गजल गायन होगा। इसके अलावा हर रोज अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे। मेले में एशियाई देशों के प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है। आमंत्रण का जिम्मा आईआईएफएम (इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेस्ट मैनेजमेंट) को सौंपा गया है।

परंपरागत इलाज के जानकार और देशी जड़ी-बूटियों के आने से वन मेले का राजधानी के लोगों को सालभर इंतजार रहता है। विधानसभा और लोकसभा चुनाव की वजह से इस बार दो साल में मेला आयोजित किया जा रहा है, इसलिए इस बार मेले में बड़ी संख्या में लोगों के आने की उम्मीद जताई जा रही है। मप्र राज्य लघु वनोपज संघ के प्रबंध संचालक एसके मंडल बताते हैं कि मेले में लोगों को लुभाने के नए प्रयोग किए जा रहे हैं।

इन देशों को भेजा आमंत्रण

मेले में क्रेता-विक्रेता सम्मेलन किया जाता है। इसमें वन समितियों के सदस्य, ग्रामीण, औषधियों के जानकार और विदेशी कंपनियों के प्रतिनिधि शामिल होते हैं। ग्रामीणों को अपनी औषधि के लिए प्लेटफार्म उपलब्ध कराने इस बार नेपाल, भूटान, श्रीलंका, म्यांमार, मलेशिया, कंबोडिया, थाईलैंड, वियतनाम के प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है।

मेले में 20 दिसंबर को लॉफ्टर-शो आयोजित होगा। शो की अगुआई सुनील पाल करेंगे। इसी दिन सूफी गायन और मालवीय लोकगीत की भी प्रस्तुति होगी। वहीं 21 दिसंबर को कवि सम्मेलन होगा। इसकी अगुआई प्रसिद्ध कवि अशोक चक्रधर करेंगे।

98 लाख रुपए का ठेका

मेला आयोजन स्थल पर तैयारियां करने के लिए फर्म्स लालूजी एंड संस को 98 लाख रुपए का ठेका दिया जा रहा है। पिछले साल की तुलना में यह राशि ज्यादा है, लेकिन उस हिसाब से इंतजाम भी बढ़ गए हैं। डोम, टेंट, अस्थाई शॉप और अन्य सभी इंतजाम यह संस्था करके देगी।

Posted By: Sandeep Chourey

fantasy cricket
fantasy cricket