भोपाल, नवुदनिया प्रतिनिधि। विशेष डीजी पुरुषोत्तम शर्मा का उनकी पत्नी प्रिया से विवाद कोई नया नहीं है। दोनों के बीच 2008 से विवाद चल रहा है। साल 2008 में तो प्रिया ने अपने पति पुरुषोत्तम के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने के लिए शिकायत भी की थी। लेकिन मामला आइपीएस अधिकारी से जुड़ा होने की वजह से इसमें कोई कार्रवाई नहीं हुई थी। बाद में मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था। इसके बाद पिछले साल शर्मा का नाम प्रदेश के बहुचर्चित हनीट्रैप कांड में भी उछला था।

सितंबर 2019 में हनीट्रैप कांड का राजफाश हुआ था। तब तत्कालीन डीजीपी वीके सिंह ने एसटीएफ के तत्कालीन डीजी रहे शर्मा को गाजियाबाद का फ्लैट खाली करने के लिए कहा था। यह फ्लैट एसटीएफ के अधिकारियों के रुकने के लिए सेफ हाउस के तौर पर किराए से लिया गया था। ऐसी चर्चाएं थी कि इसमें गलत काम होते हैं। निर्देश मिलने के बाद शर्मा ने फ्लैट तो खाली कर दिया था। लेकिन उन्होनें तत्कालीन डीजीपी सिंह के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। शर्मा ने बकायदा प्रेस कांन्‍फ्रेंस कर सिंह पर उन्हें बदनाम करने के आरोप लगाए थे। हनीट्रैप में नाम उछलने के बाद शर्मा का उनकी पत्नी से विवाद भी हुआ था। जिसके बाद से वे अपने अल्कापुरी स्थित घर में अलग-अलग कमरों में रहते थे। बातचीत भी लगभग बंद ही चल रही थी।

पत्नी के नाम की है रजिस्ट्री

सूत्रों के मुताबिक शर्मा प्रिया के सामने अलग होने का प्रस्ताव भी रख चुके हैं। लेकिन प्रिया ने यह प्रस्ताव नामंजूर कर दिया था। करीब एक महीने पहले शर्मा ने प्रिया के नाम पर एक फ्लैट की रजिस्ट्री भी की है।

डीजीपी से ली है रिपोर्ट

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के इस मामले में बेहद सख्त तेवर हैं। उन्होनें डीजीपी विवेक जौहरी को मंत्रालय में सोमवार शाम तलब कर इस पूरे मामले की विस्तृत तौर पर जानकारी ली है। अब वे जल्द ही कोई और कार्रवाई भी कर सकते हैं।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags