भोपाल। झाबुआ विधानसभा के उपचुनाव की घड़ी नजदीक आते ही प्रचार भी गरमाने लगा है। भाजपा प्रत्याशी भानू भूरिया के पक्ष में प्रचार के दौरान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने जो विवादित बयान दिया था, उसे चुनाव आयोग ने आचार संहिता का उल्लंघन माना है। आयोग ने भार्गव को हिदायत दी है कि वे भविष्य में इस तरह की बयानबाजी न करें।

भार्गव ने झाबुआ की सभा में दिया था विवादित बयान

30 सितंबर को नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने झाबुआ में सभा करते हुए कहा था कि हम भाजपा को जिताएं वरना यह संदेश जाएगा कि पाकिस्तान को समर्थन देने वाली सरकार का प्रतिनिधि जीत गया। भाजपा का प्रत्याशी हार गया तो यह हिंदुस्तान और आपकी पराजय होगी। इस समय देश की इज्जत दांव पर लगी है। यह दो पार्टी का नहीं, बल्कि हिंदुस्तान और पाकिस्तान के बीच में चुनाव है। हमारे भानू भूरिया हिंदुस्तान का प्रतिनिधित्व करते हैं और कांतिलाल भूरिया पाकिस्तान का।

लोगों से हाथ उठवाकर पूछा कि आप हिंदुस्तान के साथ हैं या पाकिस्तान के

उन्होंने सभा में उपस्थित लोगों से हाथ उठवाकर पूछा कि आप हिंदुस्तान के साथ हैं या पाकिस्तान के। इसको लेकर कांग्रेस प्रवक्ता जेपी धनोपिया ने चुनाव आयोग में शिकायत की थी। बयान का परीक्षण करने के बाद इसे आचार संहिता का उल्लंघन माना गया। आयोग ने आदेश जारी करते हुए गोपाल भार्गव को हिदायत दी कि वे भविष्य में किसी भी आमसभा, रैली, रोड शो या मीडिया (सभी माध्यम) साक्षात्कार में संभलकर बोलें और इस तरह की बातें न करें। उल्लेखनीय है कि इस मामले में भार्गव के खिलाफ झाबुआ में प्रकरण भी दर्ज हुआ है।

Posted By: Hemant Upadhyay