भोपाल (राज्य ब्यूरो)। भाजपा के नेता संविधान में मिले आरक्षण के अधिकार को समाप्त करना चाहते हैं। कई बार पार्टी के नेता आरक्षण समाप्त करने को लेकर बयान देते हैं और फिर जनता के दबाव में उसे वापस ले लेते हैं पर जो उनकी अंतरआत्मा की आजाव है, वो बाहर आ जाती है। देश और प्रदेश में युवाओं को भ्रमित करने का काम अभियान चलाकर किया जा रहा है। इससे सावधान रहने की जरूरत है। पार्टी का सदस्यता अभियान चल रहा है। इससे ज्यादा से ज्यादा अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्तियों को जोड़ा जाए। यह बात प्रदेश कांग्रेस के अनुसूचित जाति विभाग की बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने शुक्रवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कही। उन्होंने कहा कि डा. भीमराव आंबेडकर ने जो संविधान बनाया, उसका ही असर है कि समाज में अनुसूचित वर्ग के व्यक्तियों को समानता का अधिकार मिल रहा है।

उनके सामने देश में विभिन्न् धर्म, जाति और संप्रदाय के लोगों को एक झंडे के नीचे लाने की चुनौती थी लेकिन उन्होंने अपनी दूरदृष्टि से देश का संविधान बनाकर सभी वर्गों को एक झंडे के नीचे लाकर खड़े करने का महान काम किया। डा.आंबेडकर का सम्मान पूरी दुनिया करती है। आज भाजपा के लोग इंटरनेट के माध्यम से झूठी सूचनाएं नौजवानों तक पहुंचाकर उन्हें भ्रमित कर रहे हैं पर युवा समझदार हैं और सच्चाई पहचानते हैं। उन्होंने संगठन पदाधिकारियों से कहा कि सदस्यता अभियान चल रहा है, जिसमें अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्तियों को जोड़ने की मुहिम चलाएं। सिर्फ आवेदन ही न भराएं, बल्कि उन्हें बताएं कि कांग्रेस ने अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के लिए क्या-क्या काम किए हैं।

कांग्रेस में बराबरी की हिस्सेदार

कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग के प्रदेश अध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी ने कहा कि भाजपा सहित अन्य विपक्षी दल कांग्रेस पर बेबुनियाद आरोप लगाने का काम करते हैं। वे पूछते हैं कि कांग्रेस ने क्या दिया है पर वे यह भूल जाते हैं कि संविधान निर्माता डा.भीमराव आंबेडकर को देश का पहला कानून मंत्री बनाने का काम कांग्रेस ने ही किया था। कांग्रेस में अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्तियों को बराबर की हिस्सेदारी मिलती है। भाजपा सरकार में सबसे ज्यादा अन्याय, अत्याचार, महिला उत्पीड़न की घटनाएं अनुसूचित जाति वर्ग के साथ ही घटित हो रही हैं।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local