भोपाल। नईदुनिया स्टेट ब्यूरो। Madhya Pradesh Bharatiya Janata Party भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल होने के लिए प्रदेश के नेताओं ने कवायद शुरू कर दी है। अब तक भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की टीम में मध्य प्रदेश से पांच केंद्रीय पदाधिकारी थे। इनमें पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती सहित राज्यसभा सदस्य प्रभात झा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद और ज्योति धुर्वे सचिव पद पर काम कर रहे थे।

वहीं पूर्व मंत्री कैलाश विजयवर्गीय राष्ट्रीय महासचिव के रूप में बंगाल का प्रभार संभाल रहे थे। अब राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर जेपी नड्डा की ताजपोशी के बाद अब केंद्रीय पदाधिकारियों को नई टीम बनेगी, जिसमें स्थान बनाने के लिए ज्यादातर नेता दिल्ली में सक्रिय हो गए हैं। चारों केंद्रीय पदाधिकारी पिछले कुछ समय से प्रदेश में अति सक्रियता दिखा रहे थे, जिसकी वजह साफ थी कि आने वाली टीम में अपना स्थान बना सकें।

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष का चुनाव भले ही संगठन नहीं करवा पाया हो, लेकिन अब राष्ट्रीय टीम में स्थान पाने की सियासत शुरू हो गई है। माना जा रहा है कि भाजपा के नवनियुक्त अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा अब जल्द ही अपनी नई टीम बनाएंगे। इस टीम में मप्र से कौन-कौन से चेहरे होंगे, फिलहाल कहा नहीं जा सकता है पर स्थानीय नेताओं ने दिल्ली में सक्रियता बढ़ा दी है। नड्डा की ससुराल जबलपुर की है, इसलिए वे प्रदेश के ज्यादातर नेताओं को व्यक्तिगत रूप से जानते हैं।

शिवराज सिंह चौहान

मप्र के 13 साल तक मुख्यमंत्री रहे। भाजपा के संसदीय बोर्ड के भी सदस्य रहे। पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव भी रहे और अब राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के पद पर संगठन का काम कर रहे हैं। गत वर्ष पार्टी ने उन्हें सदस्यता कार्यक्रम का राष्ट्रीय प्रभारी भी बनाया था।

उमा भारती

एनडीए सरकार के पहले कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कैबिनेट में उमा भारती पांच साल तक मंत्री रहीं। फिलहाल संगठन में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। मप्र की मुख्यमंत्री रह चुकी हैं। 2003 में भाजपा ने लोधी जाति की उमा को तत्कालीन मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ सीएम का चेहरा पेश किया था। इस बार उन्होंने स्वेच्छा से लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ा।

ज्योति धुर्वे

अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित लोकसभा क्षेत्र बैतूल से सांसद रहीं ज्योति धुर्वे भाजपा की राष्ट्रीय सचिव रही हैं। कुछ महीने पहले उनके जाति प्रमाण पत्र को खारिज कर दिए जाने के कारण पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया था।

कैलाश विजयवर्गीय

शिवराज सिंह चौहान कैबिनेट से मंत्री पद छोड़कर राष्ट्रीय महासचिव बने। पिछले हरियाणा चुनाव में प्रभारी बनाए गए। पश्चिम बंगाल में इन दिनों सक्रिय हैं। सीएए के बाद से प्रदेश की राजनीति में भी अति सक्रिय हैं। 2018 के विधानसभा चुनाव में बेटे आकाश को चुनाव लड़वाया।

प्रभात झा

पत्रकारिता के रास्ते राजनीति में आए। संघ नेताओं की नजदीकी के चलते राज्यसभा के लिए दो बार मप्र से भेजे गए। कुछ ही महीनों में दूसरा कार्यकाल खत्म होने वाला है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी रहने के साथ-साथ प्रदेशाध्यक्ष की भूमिका भी निभा चुके है। अब नई भूमिका की तैयारी में हैं।

इनका कहना है

नव निर्वार्चित राष्ट्रीय अध्यक्ष को यह अधिकार है कि वे अपनी टीम गठित करें। मप्र को हर बार सम्मानजनक प्रतिनिधित्व मिलता रहा है। संसदीय बोर्ड से लेकर राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भी भाजपा के अनुभवी, योग्य व क्षमतावान नेताओं को महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां मिली हैं और मप्र के कार्यकर्ताओं को पूरा भरोसा है कि नई टीम में भी जोरदार भागीदारी मप्र की होगी।

- रजनीश अग्रवाल, प्रवक्ता, भाजपा मप्र

Posted By: Hemant Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020