भोपाल, नवदुनिया स्टेट ब्यूरो। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गरीब कल्याण सप्ताह के तहत वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुए महिला स्व-सहायता समूहों के कार्यक्रम में ऐलान किया कि महिला स्व-सहायता समूहों के उत्पाद की ब्रांडिंग, मार्केटिंग के लिए राज्य स्तरीय विपणन महासंघ बनाया जाएगा। विश्व स्तरीय शोध के लिए राज्य आजीविका संस्थान बनेगा। सरकारी खरीद में महिला स्व-सहायता समूह के उत्पाद को प्राथमिकता देने के लिए नीति बनाई जाएगी। स्कूलों में यूनिफार्म महिला स्व-सहायता समूह की बहनें बनाएंगे। कपड़ा भी समूह खुद ही खरीदेगा। आंगनबाड़ियों में पूरक पोषण आहार की आपूर्ति भी महिला स्व -सहायता समूहों के महासंघ के माध्यम से होगी। अगले तीन साल में 33 लाख महिलाओं को स्व-सहायता समूह से जोड़ा जाएगा।

इस वर्ष 1400 करोड़ रुपये का ऋण बैंकों से समूह को दिलाया जाएगा। इसमें उन्हें चार फीसद से अधिक ब्याज नहीं देना होगा। इस सीमा से अधिक ब्याज राज्य सरकार वहन करेगी। कार्यक्रम के दौरान महिला स्व सहायता समूह को 164 करोड़ों रुपए का ऋण वितरण किया गया।

मुख्यमंत्री ने यह भी बताया कि अब हर माह कार्यक्रम करके डेढ़ सौ करोड़ रुपए कार्य समूहों को वितरित किया जाएगा इस दौरान देवास, दमोह और शिवपुरी के महिला स्व सहायता समूह से मुख्यमंत्री ने संवाद किया और उन्हें आश्वस्त किया कि सरकार समूहों को हर संभव मदद देगी। समूह को महिला सशक्तिकरण का सबसे बड़ा माध्यम बताते हुए उन्होंने कहा कि कोरोनाकाल के दौरान समूह ने पीपीई किट, मास्क, सैनिटाइजर, साबुन आदि बनाकर सरकार की काफी मदद की है।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020