भोपाल (राज्य ब्यूरो)। प्रदेश सरकार पांच हजार बुजुर्गों को तीर्थयात्रा पर भेजेगी। गुरुवार को 17 जिलों से ये यात्री ट्रेन से कामाख्या, रामेश्वरम, अयोध्या-वाराणसी, तिरुपति और पुरी के लिए रवाना होंगे। सरकार ने सितंबर 2023 तक एक लाख 40 हजार बुजुर्गों को तीर्थयात्रा करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग के अपर मुख्य सचिव डा.राजेश राजौरा ने बताया कि शिवपुरी, श्योपुर, गुना और अशोक नगर के तीर्थयात्री कामाख्या जाएंगे। मुरैना, ग्वालियर और दतिया से रामेश्वरम, बैतूल, विदिशा और सीहोर से अयोध्या-वाराणसी, इंदौर, धार और उज्जैन से तिरुपति, बालाघाट, मंडला, जबलपुर और डिंडौरी से तीर्थयात्री पुरी जाएंगे। सभी यात्री 11 अक्टूबर को वापस लौटेंगे।

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना शिवराज सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। कांग्रेस सरकार के समय योजना का क्रियान्वयन बंद हो गया था। विपक्ष के दबाव में कमल नाथ सरकार ने योजना का क्रियान्वयन प्रारंभ किया और कुछ तीर्थयात्रियों को यात्रा पर भेजा था।

कोरोना महामारी पर नियंत्रण के बाद सरकार ने योजना को फिर क्रियान्वित करना प्रारंभ किया। संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर भी यात्रियों के साथ तीर्थयात्रा पर गई थीं। आगामी समय में अन्य मंत्री भी श्रद्धालुओं के साथ यात्रा पर जाएंगे। विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लागू होने के पहले सितंबर 2023 तक एक लाख 40 हजार श्रद्धालुओं को यात्रा कराई जाएगी। इसके साथ ही विमान से भी तीर्थयात्रा पर श्रद्धालुओं को भेजा जाना प्रस्तावित है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close