भोपाल। नईदुनिया स्टेट ब्यूरो। Madhya Pradesh Honey trap case हनी ट्रैप मामले में आरोपितों से पूछताछ की श्रृंखला में आयकर अफसरों ने मंगलवार को आरती दयाल से दिनभर सात घंटे तक पूछताछ चलती की। गिरफ्तारी के बाद उसके कब्जे से मिले मिले लाखों रुपए नकद, ज्वेलरी और पैनड्राइव आदि के बारे में सवाल हुए। अहम सवाल यही था कि 'बताओ- किस अधिकारी से वसूले एक करोड़ रुपए?" सवालों को कई एंगल से पूछा गया। बताया जाता है कि विभाग के सामने कई नामों का खुलासा हआ है।

पुलिस की कड़ी सुरक्षा के बीच दोपहर पौने 12 बजे हनी ट्रैप की आरोपित आरती दयाल को होशंगाबाद रोड स्थित आयकर भवन लाया गया था। आरती से सात घंटे तक पूछताछ का सिलसिला चलता रहा। विभागीय अफसरों ने पैसों के लेनदेन और उसके पास से मिले नकदी का स्रोत पूछा।

चालान पत्र में वित्तीय लेनदेन के जो तथ्य दिए गए हैं, उससे जुड़े सवाल भी किए गए। उल्लेखनीय है कि सोमवार को हनी ट्रैप मामले की मुख्य सरगना श्वेता विजय जैन से आयकर भवन में दिन भर पूछताछ की गई थी। विभागीय अफसरों की टीम ने एक ही सवाल को अलग-अलग एंगल से घुमा-फिराकर पूछा। पैसों के बंटवारे को लेकर जो नाम सामने आए हैं उनके संबंध में भी पूछताछ की गई।

आयकर अफसरों ने आरती से कुछ ऐसे सवाल भी पूछे जो एक दिन पहले श्वेता से पूछे थे। दोनों के जवाब में सत्यता जानने की कोशिश की गई। विभागीय सूत्रों का कहना है कि छानबीन अभी चल रही है, लेकिन उन्हें हनीट्रैप मामले में जो भी वित्तीय लेनदेन हुआ है, उसको लेकर कई अधिकरियों के नाम मिले हैं।

उल्लेखनीय है कि एसआईटी ने आरती के कब्जे से चार मोबाइल फोन, दो पेनड्राइव, दो फोन कार्ड, फर्जी आधार कार्ड, चार डायरियां, एक पॉकेट नोटबुक, एक लाख रुपए मूल्य के आभूषण और 34 हजार रुपए नकद बरामद किए थे। इंद्रपुरी स्थित एचडीएफसी बैंक में आरती के लॉकर से 13 लाख 98 हजार रुपए नकद भी मिले थे। अधिकारियों ने इन पैसों का भी ब्योरा मांगा है।

तलाश रहे आय के स्त्रोत

आयकर इंवेस्टीगेशन विंग के महानिदेशक राजेश टुटेजा ने आरती दयाल से दिन भर हुई पूछताछ की पुष्टि की है। उन्होंने इतना ही कहा कि वित्तीय लेनदेन और तथ्यों की छानबीन अभी चल रही है। आय के स्रोत तलाशे जा रहे हैं।

Posted By: Hemant Upadhyay

fantasy cricket
fantasy cricket