Madhya Pradesh News: भोपाल नवदुनिया प्रतिनिधि। शिक्षा के अधिकार अधिनियम(आरटीई) के तहत निजी स्कूलों में 25 प्रतिशत सीटों पर प्रवेश दिया जाता है। इस सत्र के लिए प्रदेश के 26 हजार निजी स्कूलों में दो लाख 70 हजार सीटों के लिए दो लाख 12 हजार आवेदन आए हैं। इनमें अब तक 79 प्रतिशत सत्यापन हुए हैं। आरटीई के तहत हर साल प्रवेशित विद्यार्थियों की संख्या में कमी आ रही है। इसका कारण यह है कि बड़े स्कूल आरटीई के दायरे से बाहर हैं। वहीं छोटे निजी स्कूल पोर्टल पर प्रदर्शित हो रहे हैं। पोर्टल पर बड़े निजी स्कूलों का नाम नहीं होने के कारण अभिभावक अपने बच्चों को प्रवेश दिलाने से बच रहे हैं। हर साल करीब एक से डेढ़ लाख ही बच्चे आरटीई के तहत प्रवेश ले रहे हैं। जबकि स्कूलों में लगभग ढ़ाई से तीन लाख सीटें आवंटित की गई है। बता दें, कि पिछले वर्ष दो लाख 84 हजार सीटों के लिए एक लाख 99 हजार आवेदन आए थे, जबकि एक लाख 29 हजार प्रवेश हुए थे।

सत्यापन में दो दिन बाकी

दस्तावेजों के सत्यापन में दो दिन का समय शेष है, यानि नौ जुलाई तक सत्यापन होंगे। अब तक एक लाख 58 हजार 305 आवेदकों का सत्यापन हुआ है। अब भी 21 प्रतिशत सत्यापन होना बाकी है।

14 जुलाई को लाटरी निकाली जाएगी

आरटीई के तहत 14 जुलाई को आनलाइन लाटरी के माध्यम से बच्चों को निजी स्कूलों में सीट का आवंटन कर प्रवेश दिया जाएगा। अभिभावकों के पंजीकृत मोबाइल पर दस्तावेज सत्यापन में पात्र या अपात्र का संदेश भी जाएगा। वहीं पात्र विद्यार्थी स्कूलों में जाकर 23 जुलाई तक रिपोर्टिंग कर प्रवेश ले सकेंगे। पहले चरण में जिन आवेदकों का नाम नहीं आएगा। वे दूसरे चरण के लाटरी प्रक्रिया में शामिल होंगे।

प्रदेश भर का आंकड़ा

प्रदेश के स्कूलों की संख्या- 26,340

सीटों की संख्या- 2,74,916

नर्सरी की सीटें- 1,41,042

केजी-1 की सीटें- 86,752

केजी-2 की सीटें- 6,920

पहली कक्षा की सीटें-26,742

कुल आवेदन- 2,01252

कुल सत्यापन- 1,58,305

सत्र 2021-22

कुल सीटें- 2,84,000

कुल आवेदन- 1,99,741

कुल प्रवेश-1,29,690

खाली सीटें-1,54,310

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close