भोपाल (नईदुनिया स्टेट ब्यूरो)। Madhya Pradesh News राजगढ़ की घटना को लेकर जिले की दो महिला प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई में भाजपा नेता बुधवार को वहां जाएंगे। राजगढ़ कलेक्टर निधि निवेदिता एवं डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा ने जिले के ब्यावरा में रविवार को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में धारा 144 के बाद भी रैली निकालने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं को कथित रूप से चांटे मारे थे। इस घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हुआ था।

प्रदेश भाजपा के मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने मंगलवार को कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव सहित भाजपा नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल जिला कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने बुधवार को राजगढ़ जाएगा।

पाराशर ने आरोप लगाया कि इन दो महिला प्रशासनिक अधिकारियों ने तिरंगा लेकर शांतिपूर्वक तरीके से विरोध कर रहे नागरिकों को पीटा। दूसरी ओर प्रदेश कांग्रेस ने कहा कि भाजपा को महिला अधिकारियों के साथ दुर्व्यवहार करने के लिए माफी मांगनी चाहिए। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने कहा कि भाजपा को अपने ही नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज करानी चाहिए, जिन्होंने निषेधात्मक आदेश का उल्लंघन किया और महिला अधिकारियों के साथ दुर्व्यवहार किया।

शिवराज, भार्गव राजगढ़ में माफीनामा भी लेकर जाएं: सलूजा

पीसीसी अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने पूर्व मुख्यमंत्री चौहान, नेता प्रतिपक्ष भार्गव के राजगढ़ जाने पर कहा है कि उन्हें वहां महिला अधिकारियों के सम्मान के लिए हार व माफीनामा लेकर भी जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि महिला अधिकारियों ने वहां कानून व कर्त्तव्य पालन कराया, जिसके बदले उनसे भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा अभद्र व्यवहार किया गया। इसलिए कानून व कर्त्तव्य का पालन कराने के लिए उनका सम्मान करें तथा अभद्रता व्यवहार के लिए उनसे माफी मांगें।

सलूजा ने कहा कि महिलाओं के साथ अभद्रता, उनके बाल और कपड़े खींचने, लात मारने, धमकाने जैसे कृत्य का समर्थन भाजपा की महिलाओं के प्रति सोच व सम्मान को दिखाता है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने एक दिन पहले ही जांच दल राजगढ़ भेजा और उसकी रिपोर्ट आए बिना ही राजगढ़ जाकर एफआईआर दर्ज करने का एलान कर दिया गया है। सलूजा ने कहा कि जांच दल के सदस्यों ने खुद ही वहां पहुंचकर राजगढ़ एसपी को ज्ञापन सौंप दिया था। इसके बाद भी भाजपा नेता फिर से एफआईआर दर्ज कराने जाना चाह रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं के यह कृत्य जिले का माहौल खराब करने की कोशिश है।

एसडीएम पांडे को हटाया

उधर, ब्यावरा में तिरंगा रैली के दौरान धारा 144 के उल्लंघन में रविवार शाम गिरफ्तार किए गए आठ आरोपितों को एसडीएम कोर्ट ने मंगलवार शाम जमानत दे दी। इधर, कलेक्टर ने आदेश जारी कर ब्यावरा एसडीएम रमेश पांडे को हटाकर संदीप अस्थाना को जिम्मेदारी दी है। सीएए समर्थकों और प्रशासन के बीच विवाद में पुलिस ने 124 नामजद समेत 500 अन्य पर धारा 188 के तहत मामला दर्ज किया है।

कांग्रेस कार्यालय में ज्ञापन लेने पहुंचे एएसपी

वहीं राजगढ़ में कांग्रेस जिलाध्यक्ष नारायण सिंह आमलावे के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यालय में बैठक हुई। भाजपा नेताओं पर अशांति फैलाने और महिला अधिकारियों से अभद्रता करने के मामले में कार्रवाई को लेकर एएसपी एनएस सिसौदिया को कार्यालय में बुलाकर ज्ञापन सौंपा। कांग्रेस नेताओं ने कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर के समर्थन में नारे भी लगाए।

Posted By: Hemant Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020