Madhya Pradesh News : भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। लॉकडाउन अवधि में सायबर क्राइम के मामले भी बढ़ रहे हैं। अब तक 80 से अधिक लोग ठगी का शिकार बन चुके हैं। ठगों ने इनके दो से 10 हजार रुपये तक उड़ा लिए। सामने आते मामलों के चलते सायबर सेल पुलिस ने फिर से एडवायजरी जारी की है। इसमें लोगों को सावधान रहने की समझाइश दी गई है। कहा है कि यदि कैशबैक के नाम पर किसी का कॉल आए तो समझें कि वह फर्जी है और झांसे में आकर ऑनलाइन राशि ट्रांसफर न करें।

25 मार्च से अब तक पुलिस करीब 10 बार एडवायजरी जारी कर चुकी है। हर बार लोगों को सायबर ठगों के चंगुल से बचने की सलाह दी जाती है, पर कई लोग अनजाने में ठगी का शिकार हो जाते हैं। कई लोग जागरूकता के चलते ठगी का शिकार होने से बच भी चुके हैं। अधिकांश मामलों में ठगों ने मोबाइल पर कॉल करके खुद को परिचित बताया और झांसे में लेकर बैंक खाते से राशि ट्रांसफर करा ली। इसके अलावा बैंक से जुड़ी गोपनीय जानकारी हासिल करके बाद में राशि निकाल ली गई। कैशबैक के नाम पर भी लोग ठगे गए।

यदि ऐसा हो तो यह करें

- फेसबुक अकाउंट हैक करके संबंधित के परिचितों को मैसेज किए जा रहे हैं। जिसमें अर्जेंट में रुपयों की जरूरत होने की बात कही जाती है। फिर ठग रुपये बैंक खाते में ट्रांसफर करा लेते हैं। यदि ऐसे मैसेज आए तो सबसे पहले उनकी जांच कर लें। इसके बाद ही आगे कदम बढ़ाएं।

- फेसबुक अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए 'टू स्टेप अथेंटिकेशन' का ऑप्शन ऑन रखें। इससे पता चल सकेगा कि आपका अकाउंट कोई दूसरा तो उपयोग नहीं कर रहा है।

- आपके पास किसी वॉलेट कंपनी से कैशबैक देने के नाम पर कॉल आता है तो समझ जाएं कि यह फर्जी है।

- स्क्रीन शेयरिंग से जुड़े एप्स डाउनलोड न करें।

- मोबाइल या टेलीफोन पर कॉल करके यदि कोई बैंक संबंधित गोपनीय जानकारी या एटीएम नंबर, पासवर्ड पूछे तो उसे कुछ न बताएं। वन टाइम पासवर्ड यानी ओटीपी भी किसी से साझा न करें।

(स्रोत : पुलिस के अनुसार)

इस नंबर पर करें शिकायत

यदि आप सायबर क्राइम के शिकार हो गए हैं तो सायबर हेल्पलाइन नंबर 7049106300 पर तुरंत संपर्क करें।

पुलिस को तुरंत सूचित करें

लॉकडाउन अवधि में ठगी के 80 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। इनकी जांच की जा रही है। फिर से एडवायजरी जारी की गई है। लोग सावधान रहें। न तो अंजान व्यक्ति से रुपयों का लेन-देन करें और न ही अपने बैंक अकाउंट से जुड़ी गोपनीय जानकारी किसी को दें। यदि ठगी के शिकार होते हैं तो तुरंत पुलिस को सूचित करें।

- संदेश जैन, एएसपी सायबर सेल भोपाल

एक नजर में

80 से अधिक सायबर ठगी के मामले लॉकडाउन के दौरान सामने आए।

2 से 10 हजार रुपये तक लोगों से ठगे।

10 बार पुलिस ने जारी की एडवायजरी।

10 सोशल मीडिया प्लेटफार्म व एप्स के जरिए ठगी।

मप्र में सायबर क्राइम

1000 से अधिक शिकायतें वर्ष 2017-18 में

1700 शिकायतें वर्ष 2018-19 में

2000 से अधिक अनुमानित शिकायतें वर्ष 2019-20 में

20 वर्ष से कम उम्र के युवा सोशल मीडिया से परेशान

20 वर्ष से अधिक उम्र वालों को ओटीपी से ठगी का खतरा

50 वर्ष से अधिक उम्र के लोग भरोसा कर दे देते हैं जानकारी

नोट : वर्ष 2019 में शिकायतों के पुलिस द्वारा कराए गए उम्रवार विश्लेषण अनुसार।

ऐसे एप्स डाउनलोड न करें, जो स्क्रीन शेयरिंग करते हो

सायबर क्राइम एएसपी संदेश जैन ने कहा है कि ऐसे एप्स डाउनलोड न करें, जो स्क्रीन शेयरिंग करते हो। इनके जरिए ठग मोबाइल को अपने नियंत्रण में ले लेते हैं और फिर ऑनलाइन लेन-देन वाले एप के जरिए राशि ट्रांसफर कर लेते हैं। सोशल मीडिया के फेसबुक, व्‍हाट्सएप आदि प्लेटफार्म से भी ठगी की जा रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना