Madhya Pradesh News: भोपाल (राज्य ब्यूरो)। इंदौर सहित अन्य स्थानों पर आटो मोबाइल के क्षेत्र में काम कर रही मेसर्स पटवा आटोमोटिव प्राइवेट लिमिटेड और इसके डायरेक्टरों के खिलाफ सीबीआइ ने प्रकरण दर्ज किया है। मामला बैंक आफ बड़ौदा से लिए गए लोन (कर्ज) को नहीं चुकाने और बैंक की अनुमति के बगैर राशि को अन्य खातों में ट्रांसफर करने का है।

बैंक आफ बड़ौदा के इंदौर रीजन के डिप्टी जनरल मैनेजर राजेश डी शर्मा ने 21 सितंबर 2021 को मामले की शिकायत की थी। जांच के बाद 21 अक्टूबर को आरोपित सुरेंद्र पटवा और मोनिका पटवा सहित अन्य के खिलाफ सीबीआइ ने प्रकरण दर्ज किया। ये लोग पटवा आटोमोटिव प्राइवेट लिमिटेड में डायरेक्टर हैं। सीबीआइ की टीम ने भोपाल और इंदौर में आरोपितों के परिसरों की तलाशी ली है।

बताया गया है कि इसमें धोखाधड़ी से संबंधित दस्तावेज बरामद किए गए हैं। बैंक की ओर से की गई शिकायत में बताया गया था कि कंपनी डायरेक्टरों ने वर्ष 2014 से 2017 के बीच धोखाधड़ी की। इसमें आइडीबीआइ बैंक द्वारा दी गई ऋण सुविधा के अलावा बैंक आफ बड़ौदा द्वारा 36 करोड़ स्र्पये लोन की राशि का दुस्र्पयोग किया गया है। यह ऋण खाता दो मई 2017 को एनपीए बन गया। सीबीआइ ने बैंक के बकाया 29 करोड़ 41 लाख स्र्पये नहीं चुकाने का मामला दर्ज किया है।

कंपनी का नाम भी बदला

सूत्रों का कहना है कि बैंक की ओर से की गई शिकायत में यह भी बताया गया है कि कंपनी का इंदौर के अलावा मंदसौर, रतलाम, नीमच आदि जगह भी कारोबार है। लोन नहीं चुकाने पर नोटिस दिए लेकिन कंपनी की ओर से राशि नहीं लौटाई गई। कोर्ट से इस मामले में कार्रवाई का आर्डर लिया तो पता चला कि कंपनी का नाम मेसर्स पटवा आटोमोटिव से बदलकर मेसर्स भगवती पटवा आटोमोटिव कर दिया गया।

इसके लिए बैंक की अनुमति नहीं ली गई। जिस काम के लिए बैंक ने लोन दिया था, उसका अन्य कार्यों में उपयोग किया गया। बैंक ने आंतरिक जांच कमेटी बनाई जिसने अपनी रिपोर्ट में कहा कि पटवा आटोमोटिव की ओर से 20 करोड़ 45 लाख स्र्पये पटवा अभिकरण रतलाम के खाते में ट्रांसफर किए गए। इसके अलावा आटो मोबाइल की बिक्री के आंकड़े भी सही नहीं थे। बेलेंस शीट में भी हेरफेर किया गया। गारंटर सुरेंद्र पटवा ने भी 18 फरवरी 2017 को स्वीकार किया था कि फंड गलत तरीके से डायवर्ट किया था।

भोजपुर से भाजपा विधायक हैं सुरेंद्र पटवा

सुरेंद्र पटवा के परिवार का राजनीति के क्षेत्र में खासा रसूख है। सुरेंद्र पटवा वर्तमान में भोजपुर से भाजपा विधायक हैं। वे भाजपा की पिछली सरकार में मंत्री रहे हैं। इस बार उन्हें मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली। बैंक से लेनदेन को लेकर पिछले कुछ साल से वे लगातार विवादों में रहे हैं। अलग-अलग समय पर बैंक की ओर से इन पर कार्रवाई भी की गई है। अब सीबीआइ के पास मामला आने के बाद आर्थिक रूप से गड़बड़ी करने के मामले में सुरेंद्र पटवा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। उल्लेखनीय है कि सुरेंद्र पटवा प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा के भतीजे हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local