भोपाल। नवदुनिया स्टेट ब्यूरो। Madhya Pradesh News केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के नाम से मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन को फोन कराने वाले डेंटिस्ट चंद्रेश शुक्ला के खिलाफ राजभवन अब एक और सख्त कार्रवाई की तैयारी में है। मेडिकल यूनिवर्सिटी की कार्यपरिषद (ईसी) से उसकी सदस्यता भी बर्खास्त की जाएगी। इस संबंध में राज भवन ने औपचारिक तौर पर निर्णय ले लिया है। कार्यपरिषद में वह करीब साढ़े तीन साल से मनोनीत सदस्य है।

आरोपित डेंटिस्ट शुक्ला राजभवन का पैनेलिस्ट डॉक्टर भी है, उसने 3 जनवरी को मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय (मेडिकल यूनिवर्सिटी) का कुलपति बनने के लिए इंटरव्यू दिया था। इस विश्वविद्यालय में चंद्रेश बतौर कार्यपरिषद (ईसी) सदस्य के रूप में करीब साढ़े तीन साल से मनोनीत भी है। मेडिकल यूनिवर्सिटी में 'ईसी मेंबर" होने और राजभवन में सीधे संपर्क के कारण डेंटिस्ट शुक्ला प्रशासनिक अधिकारियों पर धौंस भी दिखाता था।

राजभवन ने डेंटिस्ट शुक्ला को मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय की कार्यपरिषद की सदस्यता से बर्खास्त करने की तैयारी भी कर ली है, इस संबंध में जल्दी ही उसके सदस्यता निरस्त करने संबंधी आदेश जारी किए जाएंगे। कार्यपरिषद सदस्य मनोनीत होने के बाद चंद्रेश डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया का सदस्य भी बन गया था। काउंसिल ने हाल ही में उसकी सदस्यता बर्खास्त कर दी है।

उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने पिछले सप्ताह डेंटिस्ट शुक्ला और उसके दोस्त विंग कमांडर कुलदीप वाघेला को गिरफ्तार किया था। वाघेला ने ही गृहमंत्री शाह बनकर फोन पर राज्यपाल टंडन से डेंटिस्ट शुक्ला को कुलपति बनाने की सिफारिश की थी। वाघेला पूर्व में राजभवन में राज्यपाल के परिसहाय (एडीसी) के रूप में तैनात रह चुका है। उसने ही राज्यपाल को फर्जी फोन किया था, जिसके बाद राजभवन को संदेह होने पर मामले की छानबीन हुई और एसटीएफ ने दोनों को गिरफ्तार किया है।

Posted By: Hemant Upadhyay

fantasy cricket
fantasy cricket