Madhya Pradesh News: भोपाल (राज्य ब्यूरो)। वर्षाकाल में तीन माह (जुलाई से सितंबर) के प्रतिबंध के बाद एक अक्टूबर (शनिवार) से मध्य प्रदेश की रेत खदानों में खनन शुरू होगा। इसी के साथ रेत के दाम भी आठ से 10 हजार रुपये प्रति डंपर तक कम हो सकते हैं। वर्तमान में निर्माण कार्य के लिए लोगों को एक डंपर रेत 36 से 42 हजार रुपये तक खरीदनी पड़ रही है। वहीं बाजार में सौ घनफीट रेत साढ़े छह से सात हजार रुपये तक मिल रही है। दरअसल, ठेकेदारों ने जुलाई में रेत खनन पर प्रतिबंध लगाए जाने के पहले भंडारण कर लिया था और अब इसमें दोहरा परिवहन खर्च बताकर महंगी रेत बेच रहे हैं।

खनन शुरू होने के साथ ही इसका असर रेत के दाम पर पड़ेगा। मांग की पूर्ति होने पर दाम कम होंगे। फुटकर में रेत बेचने वाले अनुमान लगा रहे हैं कि सात सौ घनफीट यानी एक डंपर रेत के दाम आठ से 10 हजार रुपये तक कम हो सकते हैं। ऐसा हुआ तो सौ घनफीट रेत के दाम 4200 से 4700 रुपये तक आ जाएंगे। इसके लिए फिलहाल 6600 से 7200 रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं।

तीन सौ खदानों में शुरू होगा खनन

प्रदेश के 47 जिलों में स्थित करीब तीन सौ खदानों में एक साथ खनन शुरू हो जाएगा। जिससे बाजार की मांग के अनुसार रेत मिलने लगेगी।

भंडारण कर बेची जा रही थी रेत

अभी तक वह रेत बेची जा रही थी, जो वर्षा शुरू होने से पहले ठेकेदारों ने खदान से 10 किमी की परिधि में भंडारित करके रखी थी। ठेकेदारों का कहना है कि इसमें दोहरा परिवहन खर्च आता है। पहला तो खदान से रेत लाकर भंडारित करने और फिर भंडारण स्थल से उठाकर शहर तक भेजने में ज्यादा राशि खर्च होती है इसलिए वह महंगी हो जाती है। हालांकि यह आरोप आम है कि रेत भंडारित करने के बाद ठेकेदार मनमाने दाम वसूल करते हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close