भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। तकनीकी शिक्षक संघ की ओर से आनलाइन बैठक आयोजित की गई। इसमें प्रदेश भर के शासकीय इंजीनियरिंग एवं पालीटेक्निक एवं राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के 68 प्रोफेसर शामिल हुए। विशेष रूप में प्रोफेसर उदय चौरसिया अध्यक्ष तकनीकी शिक्षक संघ, एके सिद्दीकी, प्रोफेसर गंगाराम मंडलोई, प्रोफेसर अर्चना तामलकर, प्रोफेसर संदीप पांडे, प्रोफेसर मनीष अहिरवार, प्रोफेसर असलम हुसैन, प्रोफेसर हेमंत परमार, प्रोफेसर अनूप मिश्रा, सत्येंद्र सिंह सहित अन्य मौजूद थे। संघ के अध्यक्ष प्रोफेसर चौरसिया ने बताया कि इन मांगों को लेकर तकनीकी शिक्षा मंत्री एवं प्रमुख सचिव को शीघ्र ही ज्ञापन दिया जाएगा।

बैठक में निम्न निर्णय लिए गए

- राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के घटक संस्था यूनिवर्सिटी इंस्टिट्यूट आफ़ टेक्नोलाजी में लगभग 180 पदों पर नियमित नियुक्ति की जाए।

- तकनीकी शिक्षक संघ प्रशासन से मांग करता है की लंबे समय से तकनीकी शिक्षा में संचालक का पद खाली है शीघ्र ही भरा जाए जिससे तकनीकी शिक्षा की गुणवत्ता बनी रहे।

- तकनीकी शिक्षक संघ के संज्ञान में या बात लाई गई है की कई पालीटेक्निक एवं इंजीनियरिंग महाविद्यालय में करियर एडवांसमेंट स्कीम के तहत अभी भी प्रमोशन नहीं किए गए, इसलिए संघ मांग करता है की संचनालय में एक केंद्रीय समिति बनाई जाए जो संपूर्ण मध्यप्रदेश में तकनीकी शिक्षा में करियर एडवांसमेंट स्कीम के तहत प्रमोशन नहीं हुए हैं तो सेंट्रलाइज कमेटी द्वारा निरीक्षण कर शीघ्र शिक्षकों के प्रमोशन किया जाए जिससे उनका मनोबल बना रहे।

-तकनीकी शिक्षक संघ मांग करता है की शीघ्र से शीघ्र 2004 सेवा भर्ती नियम शिक्षकों को शासन में मर्ज किया जाए, जिससे नियमों में एकरूपता आए एवं शिक्षकों में समानता का भाव आ सके।

- राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय भोपाल के घटक संस्थाओं के प्राचार्य पद पर शीघ्र ही सीधी भर्ती की जाए, जिसके पूर्व में एड के माध्यम से आवेदन मंगाए गए थे। उनकी छटाई करके भर्ती शीघ्र की जाए।

- तकनीकी शिक्षक संघ मांग करता है कि 40 प्रतिशत कक्षा आनलाइन माध्यम से कराई जाए जिससे संपूर्ण मध्यप्रदेश में तकनीकी शिक्षा की गुणवत्ता बनी रहे।

- राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय भोपाल में रोस्टर का पालन करते हुए एवं मप्र शासन के सत्र 2022 से अतिथि सहायक प्राध्यापकों/व्यखातायों की नियुक्ति करने के संबंध में आदेश पारित किया है, जो जुलाई 2022 सत्र में लागू होना है प्रस्तावित है।

-संघ के संज्ञान में रीवा इंजीनियरिंग कालेज रीवा के प्राचार्य से तकनीकी शिक्षक संघ यह निवेदन करता है की उनकी संस्था मे 2004 भर्ती नियम के समस्त सहायक प्राध्यापकों के वर्ष 2007 में ज्वाइनिंग सहायक प्राध्यापकों के एमई/एमटेक के उच्च अहर्ता के अग्रिम वेतन वर्ष 2017 से उनके कार्यकाल में बिना किसी नोटिस के प्रदान करना बंद कर दी गई। पिछले चार वर्षो से अब तक एआईसीटीई के गजट एवं मप्र शासन आदेशों और अन्य इंजीनियरिंग कालेज में समक्ष योग्यताओं में प्रदान किए जाने आदि नियमों के बावजूद रीवा संस्था के चार प्राध्यापकों को उक्त लाभों से वंचित कर मानसिक एवं आर्थिक हानि पहुंचना उचित नही है अति शीग्रता के साथ कार्यवाही किया जाना चाहिए वर्ष 2016 में नियुक्त सहायक प्राध्यापकों के उच्च अहर्ता के अग्रिम वेतनवृद्धि पर अवश्यक कार्यवाही हो।

- तकनीकी शिक्षा विभाग के अंतर्गत इंजीनियरिंग महाविद्यालय एवं पालीटेक्निक महाविद्यालयों में स्वशासी निकाय में नियुक्त शिक्षकों का वेतन वर्तमान में कोषालय से वेंडर आईडी के द्वारा स्वशासी तकनीकी संस्थाओं को सहायता शीर्ष के अंतर्गत भुगतान किया जा रहा है, लेकिन उक्त के संबंध में कोष एवं लेखा विभाग द्वारा आपत्ति दर्ज कर इसे आर्थिक अनियमितता बताया गया है एवं अधिकारियों/कर्मचारियों का वेतन वेंडर आईडी से ना कर उनके वेतन का आहरण वेतन के समुचित शीर्ष हेड से किया जाए।

-प्रदेश के समस्त इंजीनियरिंग एवं पालीटेक्निक महाविद्यालय में 2004 में नियुक्त शिक्षकों के एरियर का भुगतान सातवें वेतनमान के अनुसार शीघ्र किया जाए।

- सिरोंज पालीटेक्निक छिंदवाड़ा पालीटेक्निक एवं खरगोन पालीटेक्निक, अशोकनगर पालीटेक्निक के शिक्षकों के करियर एडवांसमेंट स्कीम के तहत प्रमोशन शीघ्र किया जाए।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close