Madhya Pradesh Tiger Reserve: भोपाल(राज्य ब्यूरो)। मानसून सीजन के तीन माह के प्रतिबंध के बाद शनिवार से प्रदेश के टाइगर रिजर्व, नेशनल पार्क और अभयारण्यों के गेट पर्यटकों के लिए खोल दिए जाएंगे। कूनो पार्क 15 अक्टूबर को खोल दिया जाएगा लेकिन चीता देखने के लिए इंतजार करना पड़ेगा। सभी टाइगर रिजर्व में शुरूआती दिनों की आनलाइन बुकिंग फुल है।

देश के चुनिंदा पार्कों में से एक कान्हा टाइगर रिजर्व के तीनों गेट एक साथ खोले जा रहे हैं। अभी तक बिछिया गेट बाद में खोला जाता था। जबकि संजय दुबरी नेशनल पार्क और रातापानी जैसे अभयारण्यों को पर्यटकों का इंतजार है।

ज्ञात हो कि प्रदेश में एक जुलाई से 30 सितंबर (वर्षाकाल) तक पार्कों के कोर क्षेत्र में पर्यटन प्रतिबंधित रहता है। जबकि बफर क्षेत्र में पर्यटन कराया जाता है। प्रदेश में छह टाइगर रिजर्व (कान्हा, बांधवगढ़, पेंच,पन्ना, सतपुड़ा और संजय दुबरी) हैं। 10 नेशनल पार्क और 24 अभयारण्य हैं। जिनमें अब पर्यटक बफर के साथ कोर क्षेत्र में पर्यटन कर सकेंगे। पिछले तीन माह से इस पर प्रतिबंध था।

पर्यटकों के लिए पार्क खोलने से पहले वन विभाग ने जंगल और नदी-नालों से गुजरने वाले रास्तों को दुरस्त कर लिया है। हालांकि श्योपुर जिले में तीन दिन पहले तक वर्षा हुई है। इसलिए कूनो पालपुर नेशनल पार्क 15 अक्टूबर से पर्यटकों के लिए खोला जाएगा पर पर्यटक चीतों को फिर भी नहीं देख सकेंगे। चीता बाड़े के क्षेत्र को बंद रखा जाएगा। वहां किसी भी पर्यटक को नहीं जाने दिया जाएगा।

पहली बार गोल्डन पास

वन्यप्राणी मुख्यालय ने पहली बार गोल्डन पास जारी किए हैं, जो 25 गुना शुल्क चुकाकर खरीदे जा सकते हैं। पास लेने वाले एक साल तक प्रदेश के किसी भी पार्क में घूम सकेंगे। उनसे फिर शुल्क नहीं लिया जाएगा। यदि समूह में पास लिया है, तो वह एक बार में पांच लोगों को लेकर पार्क की सैर कराई जाएगी। समूह में अधिकतम 10 लोग रहेंगे।

पार्कों में जाने के लिए आनलाइन दिए गए परमिटों की स्थिति (अक्टूबर में)

पार्क --- परमिट

कान्हा -- 3585

बांधवगढ़ -- 3108

पेंच -- 2163

पन्ना -- 673

संजय दुबरी -- 503

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close