भोपाल। अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में गहरे कम दबाव के क्षेत्र बने हुए हैं। इन शक्तिशाली सिस्टम के कारण मध्यप्रदेश में ठंड के सीजन में कहीं-कहीं रुक-रुक कर बरसात हो रही है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अभी 3-4 दिन तक मौसम का मिजाज इसी तरह बना रहेगा।

इसी क्रम में बुधवार-गुरुवार को भोपाल, इंदौर, जबलपुर, कटनी, नरसिंहपुर, सिवनी, मंडला, बालाघाट, होशंगाबाद, खंडवा, धार, बड़वानी, झाबुआ, रायसेन, सीहोर में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने के आसार हैं।

मौसम विज्ञान केंद्र के प्रवक्ता के मुताबिक मंगलवार को सुबह 8:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक प्रदेश के खंडवा में 31, धार में 5, खरगोन में 3, इंदौर में 1, होशंगाबाद में 0.4 मिमी. बरसात हुई। इस दौरान भोपाल और उज्जैन में बूंदाबांदी हुई।

मौसम विज्ञानी अभिजीत कुमार ने बताया कि वर्तमान में अरब सागर में एक गहरा कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इस सिस्टम के अगले 48 घंटों के दौरान अबदाब का क्षेत्र बनने की संभावना है। इसके प्रभाव से 25-26 अक्टूबर तक प्रदेश के उत्तर-पश्चिम इलाके में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की स्थिति बरकरार रहेगी। इसी तरह बंगाल की खाड़ी में भी एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है।

इस सिस्टम के असर से भी 25-26 अक्टूबर तक पूर्वी मप्र में बादल बने रहेंगे और रुक-रुक कर बौछारें पड़ सकती हैं। अभिजीत कुमार के मुताबिक 26 अक्टूबर के बाद मौसम साफ होने लगेगा। बादलों के छंटने के साथ ही हवाएं उत्तरी होंगी। इससे पूरे प्रदेश में सर्द हवाओं से ठंड बढ़ने लगेगी। इस दौरान रात का तापमान प्रदेश में सामान्य से काफी नीचे भी जा सकता है।

बैतूल में एक इंच से अधिक बारिश

बैतूल। सोमवार रात को फिर बैतूल सहित कई स्थानों पर जमकर बारिश हुई। बैतूल और भैंसदेही में एक-एक इंच से अधिक बारिश दर्ज की गई। बेमौसम हो रही बारिश से खेतों में कटी पड़ी और कटने के लिए तैयार खड़ी फसलों को नुकसान हो रहा है। हालांकि मंगलवार को थोड़ी धूप निकली थी, इसके बाद फिर बादल छा गए।

जिले में पिछले 3 दिन से बादल छाए हुए थे। सोमवार रात को बैतूल में एक से डेढ़ घंटे तक तेज बारिश हुई। सोमवार रात 8 से मंगलवार सुबह 8.30 बजे तक 29 मिलीमीटर बारिश दर्ज की जा चुकी है। जबकि भैंसदेही में 32 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है।

Posted By: Hemant Upadhyay