Madhya Pradesh weather Alert: भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। जम्मू-काश्मीर क्षेत्र पर सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ आगे बढ़ने लगा है। जिसके चलते हवाओं का रुख उत्तरी और उत्तर पश्चिमी होने लगा है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक हाल ही में उत्तर भारत के पहाड़ों पर जबरदस्त बर्फबारी और बारिश हुई है। उत्तर भारत की तरफ से मैदानी इलाको में आने वाली सर्द हवाओं से मंगलवार से मध्यप्रदेश में न्यूनतम तापमान में गिरावट का सिलसिला शुरू होगा।

मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक सोमवार को राजधानी का अधिकतम तापमान 30.6 डिग्रीसेल्सियस दर्ज किया गया। जो सामान्य से एक डिग्रीसे. कम रहा। न्यूनतम तापमान 16.1 डिग्रीसे. रिकार्ड किया गया। जो इस सीजन का सबसे कम न्यूनतम तापमान रहा। प्रदेश में सबसे कम न्यूनतम तापमान 15 डिग्रीसे. छिंदवाड़ा, बैतूल एवं रायसेन में दर्ज किया गया।

पांच दिन तक बना रहेगा न्यूनतम तापमान में गिरावट का सिलसिला

मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत क्षेत्र से आगे बढ़ने के कारण हवाओं का रुख बदलने लगा है। हालांकि वातावरण में कुछ नमी मौजूद रहने के कारण आंशिक बादल बने हुए हैं। इस वजह से सोमवार को न्यूनतम तापमान में अपेक्षित गिरावट नहीं हुई। मंगलवार को बादल छंटने लगेंगे। साथ ही वर्तमान में हवा का रुख भी उत्तरी और उत्तर-पश्चिमी होने लगा है।

इस वजह से मंगलवार से न्यूनतम तापमान में गिरावट का दौर शुरू होने के आसार हैं। तापमान में गिरावट का सिलसिला चार-पांच दिन तक बना रहेगा। 31 अक्टूबर के आसपास एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में प्रवेश करने की संभावना है। इसके बाद हवाओं का रुख फिर बदलने से तापमान बढ़ने लगेगा।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local