भोपाल, इंदौर। राजधानी समेत प्रदेश में कई स्थानों पर बुधवार को सुबह हल्की बौछारें पड़ी। दिनभर धुंध छाई रही। इससे 24 घंटे में अधिकतम तापमान में पांच डिग्री की गिरावट आ गई। बुधवार को राजधानी का तापमान सामान्य से आठ डिग्री कम 23.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। जो मंगलवार के अधिकतम तापमान (28.1 डिग्री) से पांच डिग्री कम रहा। इधर, न्यूनतम तापमान 19.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

पिछले 24 घंटे में न्यूनतम तापमान में भी 0.8 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई है। मौसम विज्ञानी एके शुक्ला ने बताया कि अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के कारण क्षेत्र में इसका असर दिख रहा है। इस बार दीवाली के त्योहार में भी बारिश की संभावना है। यदि ऐसा हुआ तो यह पहली बार होगा जब अक्टूबर में दीवाली में ठंडक के साथ बारिश भी होगी। मौसम विज्ञानी के अनुसार ऐसा मौसम अभी बना रहेगा।

चार हजार मीटर रही बिजिबिलिटी, छाए रहे घने बादल

बुधवार को सुबह 8 बजे से अशोका गार्डन, इंद्रपुरी, अवधपुरी, कोलार, चूना भट्टी, शाहपुरा, गुलमोहर, एमपी नगर, अरेरा हिल्स, जहांगीराबाद, रायल मार्केट, लालघाटी, अयोध्या बाइपास समेत ज्यादातर इलाकों में हल्की बूंदें पड़ी। शाम 5 बजे तक घने बादल छाए रहे। इस दौरान विजिबिलिटी चार हजार मीटर थी।

पिछले 24 घंटे में खजुराहो सबसे ज्यादा तपा, बैतूल और ग्वालियर रहा सबसे ठंडा

मौसम विभाग के अनुसार बीते 24 घंटों के दौरान प्रदेश में सबसे ज्यादा तापमान खजुराहो, ग्वालियर और नौगांव में दर्ज किया गया है। यहां अधिकतम तापमान करीब 33 डिग्री रहा। वहीं, सबसे कम तापमान बैतूल और ग्वालियर में रिकॉर्ड किया गया। यहां 15 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया। वहीं, कुछ जिलों में बारिश भी हुई। खंडवा में 4, नालछा में 3, खकनार एवं नेपानगर में 2, गंधवानी, महू, बुरहानपुर, पंधाना, कसरावद, लटेरी व खरगौन में एक सेमी बारिश रिकॉर्ड की गई।

इन जिलों में गुरुवार को भी पड़ सकती हैं बौछारें

भोपाल, रायसेन, राजगढ़, इंदौर, जबलपुर, कटनी, नरसिंहपुर, सिवनी, मंडला, बालाघाट, होशंगाबाद, खंडवा, धार, बड़वानी, झाबुआ, रायसेन, सीहोर में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने के आसार हैं।

अंचल में तीसरे दिन भी बारिश, धार के 15 ग्रामों में उद्यानिकी फसलों पर प्रभाव

मालवा-निमाड़ अंचल में कई स्थानों पर तीसरे दिन बुधवार को भी रिमझिम बारिश का दौर चला। खेत-खलिहान में कटी फसल और खुले में रखी उपज को बचाने के लिए किसानों व व्यापारियों को मशक्कत करनी पड़ी। मौसम में भी ठंडक घुल गई है। धार में दो दिन में हुई 1 इंच से अधिक बारिश से जिला मुख्यालय के आसपास के करीब 15 ग्रामों में उद्यानिकी फसलों पर खासा असर पड़ा है।

खंडवा में लगातार चौथे दिन बादल छाए रहे। यहां करीब 20 मिनट बारिश हुई। अनाज मंडी में भी आवक कम हो रही है। बुरहानपुर में मंगलवार रात करीब एक घंटा तेज बारिश हुई, वहीं बुधवार सुबह भी रुक-रुककर जारी रही। कोहरे के कारण मार्गों पर वाहन चालकों को हेडलाइट्स जलाना पड़ी। खरगोन शहर सहित जिले में कुछ स्थानों पर रिमझिम बारिश हुई। धूलकोट में हाट प्रभावित हुआ। खेतों में कटी हुई सोयाबीन, मक्का आदि की फसलों को नुकसान पहुंचा। शाजापुर में तड़के चार से पांच बजे के बीच रिमझिम बारिश हुई। मौसम विभाग के अनुसार चार मिमी बारिश दर्ज की गई।

Posted By: Hemant Upadhyay