Madhya Pradesh Weather Update : भोपाल। मौसम विभाग नागपुर की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी मौसम की रिपोर्ट में मध्य प्रदेश के 18 जिलों जबलपुर, नरसिंहपुर, मंदसौर, नीमच, गुना, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, दमोह, सागर, छतरपुर, रायसेन, सीहोर, राजगढ, होशंगाबाद, आगर, अशोकनगर और टीकमगढ़ में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

मध्य प्रदेश में पिछले 24 घंटे में पूर्वी मध्य प्रदेश में मानसून सक्रिय तथा पश्चिमी मध्यप्रदेश में मानसून सामान्य रहा। होशंगाबाद, इंदौर, रीवा, शहडोल, सागर एवं जबलपुर संभागों के जिलों में अधिकांश स्थानों पर तथा बाकी संभागों के जिलों में कुछ स्थानों पर बारिश दर्ज की गई है। बालाघाट में 15, जबेरा में 14, पिछोर में 11, पाटन, जबलपुर, पनागर, कट्ठीवाडा में 10, वारासिवनी, मेहदवानी, शिवपुरी में 9, भिंड, खनियाधाना, भाभरा, तेंदूखेड़ा में 8, सेंधवा में 7, अलीराजपुर, कोलारस, कटंगी में 6 सेमी बारिश दर्ज की गई है।

बालाघाट में जमकर बारिश

पूर्वी मध्य प्रदेश में तेज बारिश का दौर शुरू हो चुका है, देर रात बालाघाट और आस-पास के इलाकों में जमकर बारिश हुई। तेज बारिश की वजह से सड़कों पर जलभराव हो गया और घरों में भी पानी घुस गया। शहर का दीनदयाल पुरम वार्ड पानी भरने से तालाब सा बन गया है। हालात ऐसे हो गए कि कई घरों में जेसीबी की मदद से दीवार को तोड़कर पानी निकालने की कोशिश हुई।

ओडिशा पर बना कम दबाव का क्षेत्र, अच्छी बरसात के आसार

बंगाल की खाड़ी पर बना कम दबाव का क्षेत्र आगे बढ़कर ओडिशा के उत्तरी इलाके में सक्रिय हो गया है। उसके सोमवार को छत्तीसगढ़ तक पहुंचने की संभावना है। इसके अतिरिक्त मानसून द्रोणिका (ट्रफ) भी पूर्वी मध्य प्रदेश के नजदीक से होकर गुजर रही है। इस वजह से प्रदेश में बारिश होने का सिलसिला शुरू हो गया है।

मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि रविवार को सुबह 8:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक जबलपुर में 101.4, बैतूल में 51, दमोह में 30, उमरिया में 28, रतलाम में 23, रीवा में 9, खजुराहो में 7.8, मंडला में 5, नौगांव में 4, इंदौर में 2.8, धार में 2, सागर में 1 मिमी. बरसात हुई। सोमवार-मंगलवार को प्रदेश के पूर्वी और उत्तरी इलाकों में अच्छी बारिश की उम्मीद है। शुक्ला ने बताया कि ओडिशा पर बने सिस्टम के अलावा मानसून ट्रफ भी अंबिकापुर से होकर गुजर रही है।

दक्षिण-पूर्वी उप्र पर भी एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। दक्षिण-पूर्वी राजस्थान से उत्तरी मप्र से होकर ओडिशा पर बने कम दबाव के क्षेत्र तक भी एक ट्रफ बना हुआ है। इस वजह से प्रदेश में अच्छी बरसात होने की संभावना बढ़ गई है। इसके अलावा 13 अगस्त के आसपास बंगाल की खाड़ी में एक और कम दबाव का क्षेत्र बनने के संकेत मिले हैं। इससे बारिश का सिलसिला आगे भी बना रहने की उम्मीद की जा रही है।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020