Madhya Pradesh Weather Update: भाेपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। अलग–अलग स्थानाें पर मौजूद तीन मौसम प्रणालियाें के असर से हवाओं के साथ आ रही नमी के कारण मध्य प्रदेश में कहीं–कहीं वर्षा हाे रही है। मौसम विज्ञानियाें के मुताबिक अभी छिटपुट वर्षा का सिलसिला बना रहेगा। हालांकि राजस्थान पर एक प्रति चक्रवात के बनने के कारण दाे–तीन दिन में मध्य प्रदेश के ग्वालियर, चंबल संभागाें के कुछ जिलाें से मानसून के विदा हाेने की शुरुआत भी हाे सकती है। उधर मंगलवार काे सुबह साढ़े अाठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक उमरिया में तीन मिलीमीटर वर्षा हुई।

मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक वर्तमान में पाकिस्तान पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। जम्मू कश्मीर पर एक पश्चिमी विक्षाेभ ट्रफ के रूप में बना हुआ है। बंगाल की खाड़ी में भी हवा के ऊपरी भाग मेें एक चक्रवात बना हुआ है।

मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि इन मौसम प्रणालियाें के कारण नमी मिल रही है। इसके अतिरिक्त रुक–रुककर हाे रही वर्षा के कारण भी वातावरण में काफी नमी मौजूद है। इस वजह से प्रदेश में कहीं–कहीं रुक–रुककर वर्षा हाे रही है।

उधर राजस्थान पर एक प्रति चक्रवात बन गया है। इस मौसम प्रणाली के प्रभाव से हवाअाें की दिशा बदलेगी। मौसम शुष्क हाेने लगेगा। इस वजह से दाे–तीन दिन में प्रदेश के उत्तरी क्षेत्र से मानसून के विदा हाेने की शुरुअात हाे सकती है।

हालांकि एक अक्टूबर काे बंगाल की खाड़ी में हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बनने जा रहा है। इसके असर से चार–पांच अक्टूबर काे पूर्वी मप्र में वर्षा हाे सकती है। बता दें कि इस सीजन में मंगलवार काे सुबह साढ़े आठ बजे तक मध्य प्रदेश में कुल 1167.1 मिली मीटर वर्षा हाे चुकी है। जाे सामान्य वर्षा 942.9 मिली मीटर की तुलना में 24 प्रतिशत अधिक है। राजधानी में अभी तक 1750.9 मिलीमीटर वर्षा हाे चुकी है। जाे सामान्य वर्षा 950.2 मिली मीटर के मुकाबले 84 प्रतिशत अधिक हैं। हालांकि अभी भी तीन जिलाें रीवा, सीधी एवं आलीराजपुर में सामान्य से कम वर्षा हुर्इ है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close