Mahakal Lok Ujjain: भोपाल (राज्य ब्यूरो)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उज्जैन में नवनिर्मित 'महाकाल लोक' का लोकार्पण 11 अक्टूबर को शाम छह बजे करेंगे। इसका उत्सव पूरे प्रदेश में मनाया जाएगा। इस आशय के निर्देश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को मंत्रियों व कलेक्टरों की बैठक में दिए। उन्होंने कहा कि लोकार्पण के समय हर घर में दीप जलाए जाएं, मंदिरों में रोशनी की जाए। राज्य के प्रमुख मंदिरों और प्रत्येक गांव के किसी एक मंदिर में टीवी स्क्रीन पर समारोह के सीधे प्रसारण की व्यवस्था की जाए, ताकि ग्रामवासी सहभागी बन सकें।

समारोह से प्रदेशवादियों को जोड़ने के लिए सभी कदम उठाए जाएं। इसकी अनुगूंज राष्ट्रीय स्तर पर होनी चाहिए। सोमवार को धर्मस्व एवं संस्कृति विभाग की मंत्री उषा ठाकुर, प्रमुख सचिव शिवशेखर शुक्ला और गृह विभाग के प्रमुख सचिव राजेश राजोरा ने उज्जैन स्थित महाकाल लोक पहुंचकर तैयारियों का अवलोकन किया। मालूम हो, 'महाकाल लोक' के लिए वर्ष 2017 में योजना बनी थी। 2018 में प्रशासकीय स्वीकृति दी गई। 2019 में काम रुका, जिसे 2020 से फिर प्रारंभ कराया गया और अब पहला चरण पूरा हो गया है।

मंदिर-मंदिर मनेगा महोत्सव मुख्यमंत्री ने कहा कि जिलों के प्रमुख मंदिरों में टीवी स्क्रीन से आमजन को इस कार्यक्रम को देखने का अवसर मिलेगा। सभी मंदिरों में रोशनी की व्यवस्था हो, वाद्य यंत्र बजें, रंगोली सजाएं और प्रसाद वितरण किया जाए। सभी लोग मंदिर प्रांगण में बैठकर शंख और घंटियां बजाते हुए कार्यक्रम में शामिल हों। 10 व 11 अक्टूबर को पशुपतिनाथ मंदिर मंदसौर, भादवा माता मंदिर नीमच, जालपा देवी मंदिर देवास, ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग खंडवा, बैजनाथ मंदिर आगर-मालवा सहित अन्य जिलों के प्रमुख मंदिरों में अभिषेक और पूजन किया जाए।

सोनू निगम भजन तो कैलाश खेर गाएंगे 'महाकाल गान'

लोकार्पण समारोह वाले दिन उज्जैन में प्रधानमंत्री की सभा होगी। इस समारोह में पद्मश्री कैलाश खेर 'महाकाल गान' सहित शिव भजन सुनाएंगे। इसके एक दिन पहले दशहरा मैदान पर पद्मश्री गायक सोनू निगम भजन और देशभक्ति गीतों की प्रस्तुति देंगे। इस दिन भगवान शिव पर केंद्रित लेजर शो भी होगा। सात अक्टूबर से उज्जैन में विभिन्न् धर्म, कला, संस्कृति आधारित गतिविधियां होंगी। इनमें करीब 700 अन्य कलाकार सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देंगे। सभा स्थल पर 50 हजार से अधिक लोगों की बैठक क्षमता अनुरूप वाटरप्रूफ पंडाल बनाया जा रहा है। अधिक से अधिक लोगों को आमंत्रित करने के लिए एक लाख आमंत्रण-पत्र भेजे जाएंगे।

समाज व संस्थाओं को जोड़ेंगे समारोह में इंदौर व उज्जैन संभाग के प्रत्येक जिले से विभिन्न् समाज और धर्मों के गणमान्य नागरिकों का प्रतिनिधित्व सुनिश्चित किया जाएगा। इसके लिए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कहा, विभिन्न् समाजों व संस्थाओं के अध्यक्ष, पंचायत प्रतिनिधि, पार्षद, जनजातीय समाज के तड़वी, पटेल, पुजारी आदि को आमंत्रित किया जाए।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close