Gold kite भोपाल। Makar Sankranti 2020 शहर के बड़े पतंगबाजों में एक हैं लक्ष्मी टॉकीज क्षेत्र निवासी 66 वर्षीय लक्ष्मीनारायण खंडेलवाल। पतंगों के लिए इनकी दीवानगी का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि इनके गले में करीब पांच लाख रुपए से ज्यादा कीमत की सोने की पतंग और धागे की चकरी के लॉकेट पड़े रहते हैं।

कमेंट्री का भोपाली अंदाज दर्शकों को बांधे रखता है

पतंग प्रतियोगिताओं में इनकी कमेंट्री का भोपाली अंदाज दर्शकों को बांधे रखता है। मंदाकिनी मैदान कोलार में चल रहे पतंग उत्सव में इन्होंने मंगलवार को कॉमेंट्री की और दर्शकों का दिल जीत लिया।

मकर संक्रांति से पहले ही आरंभ हो जाता है पतंगबाजी का दौर

उल्‍लेखनीय है कि मकर संक्रांति पर्व से एक सप्‍ताह पहले से ही मध्‍य प्रदेश के शहरों में पतंगबाजी का दौर आरंभ हो जाता है। अलसुबह से शाम तक रंगबिरंगी पतंगे आसमान पर तैरती नजर आती हैं।

बाजार में राजनेताओं और अभिनेताओं के चित्रों से सजी पतंग के अलावा आकर्षक पतंगों की दुकानें सज गई हैं। मकर संक्रांति पर्व पर भी खूब पतंगबाजी होती है।

उल्‍लेखनीय है कि मकर संक्रांति 15 जनवरी को मनाया जाएगा। सूर्य का धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश मंगलवार रात 2.06 बजे होगा। मकर संक्रांति के अवसर पर स्नान-दान और पूजन के लिए पर्व पुण्यकाल बुधवार सुबह सूर्योदय के साथ सुबह 7.10 से सूर्य अस्त तक शाम 5.56 बजे तक 10 घंटे 46 मिनट रहेगा।

इसी के साथ मांगलिक कार्यों का श्रीगणेश होगा। आसमान जहां पतंगों से रंग-बिरंगा होगा, वहीं विभिन्न पारंपरिक खेल गिल्ली, डंडा और सितोलिया आदि भी खेले जाएंगे।

Posted By: Hemant Upadhyay