भोपाल(नवदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना का असर राजधानी भोपाल से प्रदेश के अलग-अलग शहरों के लिए संचालित बसों में भी दिख रहा है। अभी तक बसों में गिने-चुने यात्री ही सफर कर रहे हैं। दीपावली पर्व पर भी उम्मीद के मुताबिक बसों में यात्रियों ने सफर नहीं किया। महज 15 से 20 फीसद यात्री मिलने से प्रति बस संचालक को 200 किमी दूरी के मार्ग पर बस चलाने में प्रति बस छह से आठ हजार रुपये घाटा हो रहा है। इंदौर मार्ग पर भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड (बीसीएलएल) और निजी ट्रैवल एजेंसियों की बसों को छोड़ दे तो बाकी साधारण बसों में 20 फीसद से अधिक यात्रियों की संख्या नहीं बढ़ी। यात्रियों की संख्या नहीं बढ़ने से चिंतित बस संचालकों ने रविवार को मालवीय नगर में एक बैठक बुलाई है। इस बैठक में किराया बढ़ाने को लेकर चरणबद्ध आंदोलन करने की रूपरेखा बनाई जाएगी।

बस संचालकों का कहना है कि 50 फीसद किराया बढ़ने के बाद ही घाटे की पूर्ति हो सकेगी। चारों बस स्टैंडों पर यात्री नहीं मिलने से रौनक नहीं बढ़ रही। पांच सितंबर को प्रदेश भर में बसों का संचालन शुरू होने के बाद से अब तक 100 फीसद बसों का संचालन नहीं हो पा रहा। शहर के आइएसबीटी, नादरा, हलालपुर और पुतली घर बस स्टैंडों पर कई बसें खड़ी-खड़ी से खराब हो गई हैं। बस संचालकों को उम्मीद थी कि दीपावली पर यात्रियों की संख्या बढ़ेगी, लेकिन इस महापर्व के मौके पर भी बसों को ज्‍यादा यात्री नहीं मिले। दीपावली पर हर साल बसें ठसाठस भरकर चलती थीं, लेकिन इस बार ज्‍यादातर बसें खाली ही नजर आईं। इससे बस संचालकों में मायूसी पसरी है।

कोरोना बढ़ने को लेकर भी बस संचालक फ‍िक्रमंद

बस संचालक सुरेन्द्र तनवानी ने बताया कि शासन ने अप्रैल, मई, जून, जुलाई, अगस्त का पूरा और सितंबर माह का 15 दिन (यानी कुल साढ़े पांच महीने) का टैक्स माफ किया था। इसके बाद पांच सितंबर से राजधानी सहित प्रदेश भर में पांच सितंबर से बसों का संचालन शुरू हुआ था, लेकिन कोरोना के कारण यात्रियों की संख्या नहीं बढ़ने से घाटे के चलते बसों का संचालन अस्थाई रूप से बंद करना पड़ा। बीते चार दिनों से कोरोना के मरीज अधिक संख्या में निकल रहे हैं। बस संचालकों को चिंता यह है कि इससे यात्री की संख्या और कम होगी और उनका घाटा बढ़ेगा।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस