Coronavirus in Bhopal: भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। राजधानी भोपाल में हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर खड़े किए गए रेलवे के मोबाइल आइसोलेशन कोच की जरूरत अब तक नहीं पड़ी है। वहीं भोपाल रेलवे स्टेशन के कोचों में अभी बिस्तर खाली है। यहां खड़े कोचों में हर दिन औसतन 25 से 30 मरीज ही रहते हैं, जबकि इन कोचों में 300 से अधिक मरीजों को रखने की व्यवस्था है।

गौरतलब है कि जिला प्रशासन और रेलवे ने बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मोबाइल आइसोलेशन कोच दोनों स्टेशन पर खड़े किए हैं। सामान्य लक्षण वाले मरीजों को रखने की व्यवस्था है।

मामूली लक्षण वाले मरीज हाे सकते हैं भर्ती

मोबाइल आइसोलेशन कोचो में कोरोना संक्रमण से जूझ रहे मामूली लक्षण वाले कोई भी मरीज भर्ती हो सकते हैं। यहां ऐसे मरीजों को देखने के लिए डॉक्टरों की व्यवस्था है। ऐसे मरीज और उनके परिजनों को भोपाल रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म 6 की तरफ जाना होगा। यहां रेलवे और स्थानीय प्रशासन की टीम है। मोबाइल आइसोलेशन कोच में भर्ती होने वाले मरीजों के लिए नाश्ता और भोजन की व्यवस्था की गई है।

बरतनी होंगी सावधानियां

मामूली लक्षण वाले जिन मरीजों को मोबाइल आइसोलेशन कोचों में रखा जा रहा है, उन्हें सावधानियां बरतनी होंगी। ऐसे मरीज कोच से बाहर नहीं निकल सकेंगे। प्लेटफार्म पर घूमना सख्त मना है। बगैर जानकारी के कोच नहीं छोड़ सकेंगे। एक बार कोच में भर्ती होने के बाद कम से कम सात दिन रहना होगा। डॉक्टर की सलाह पर घर जा सकेंगे।

तबीयत बिगड़ने पर अस्पतालों में भेज रहे

रेलवे के अधिकारी ने बताया कि भोपाल रेलवे स्टेशन पर मोबाइल आइसोलेशन कोच में मरीजों को कड़ी निगरानी के बीच रखा जा रहा है। जिन मरीजों की तबीयत बिगड़ती है, उन्हें तुरंत शहर के अस्पतालों में भर्ती कराया जा रहा है।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags