MP Board 10th Result 2020 : भोपाल (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दसवीं बोर्ड में गणित और अंग्रेजी में फेल होने की संख्या इस साल भी सबसे ज्यादा है। इसका कारण माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा चलाई जा रही "बेस्ट ऑफ फाइव" योजना है। विद्यार्थी इन दोनों विषयों को कठिन समझकर पढ़ाई नहीं करते और माशिमं की योजना के जरिये पास हो जाते हैं।

माशिमं ने योजना परीक्षा परिणाम बढ़ाने के लिए 2018 में शुरू की थी लेकिन यह बच्चों में कठिन विषयों को प्रति अरुचि जगा रही है। इसे देखते हुए स्कूल शिक्षा विभाग ने इस साल से योजना को बंद करने के लिए पत्र लिखा था। इस पर योजना को बंद कर जब परिणाम निकाला गया तो प्रदेश का परीक्षा परिणाम 45 फीसद ही बना। वहीं, कोरोना के कारण पूरे विषयों की परीक्षा नहीं हो सकी।

इसे देखते हुए माशिमं ने "बेस्ट ऑफ फाइव" के बदले "बेस्ट ऑफ फोर" लागू कर परिणाम बनाया। तब कहीं जाकर परीक्षा परिणाम 62.84 फीसदी रहा जो पिछले साल के 61.32 प्रतिशत के मुकाबले 1.52 फीसद अधिक है। बता दें कि इस साल दसवीं बोर्ड परीक्षा में प्रदेश भर से 8,93,336 विद्यार्थी शामिल हुए थे। इनमें से गणित में 3,98,366 व अंग्रेजी में 2,49,272 विद्यार्थी फेल हुए हैं।

2020 का विषयवार आंकड़ा

विषय रिजल्ट घोषित पास फेल

गणित 8,81,787 4,83,421 3,98,366अंग्रेजी 7,66,365 5,17,093 2,49,272विज्ञान 8,81,603 6,32,117 2,49,486सामाजिक विज्ञान 8,82,336 6,57,253 2,25,083संस्कृत 8,34,025 7,77,365 56,660

बेस्ट ऑफ फाइव का दो साल का आंकड़ा

2019 2018 कुल विद्यार्थियों की संख्या

8, 64,753 11,48,00 लाभान्वित विद्यार्थियों की संख्या 107931 1,14,774 गणित में पास विद्यार्थी 71598 62,593 अंग्रेजी में पास विद्यार्थी 18226 29,803 विज्ञान में पास विद्यार्थी 8598 12228सामाजिक विज्ञान में पास विद्यार्थी 8336 9212

नोटः 2020 के परिणाम में बेस्ट ऑफ फाइव योजना का आंकड़ा अभी प्राप्त नहीं हो सका है।

योजना के कारण पहले साल 16 फीसद बढ़ा था परिणाम

2020- 62.84 %2019- 61.32%2018- 66.54%2017-49.86%

इनका कहना है

योजना के आने से गणित, अंग्रेजी व विज्ञान विषय में फेल विद्यार्थियों को पास किया जा रहा है। यह सही है कि योजना के कारण विद्यार्थी कठिन विषय को पढ़ना छोड़ रहे हैं। इससे उनका बेसिक नॉलेज कमजोर हो रहा है। वे आगे प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए भी कमजोर साबित होंगे।

- सुनीता सक्सेना, शिक्षाविद

हर साल गणित और अंग्रेजी विषय में बेस्ट ऑफ फाइव योजना के तहत पास किया जा रहा है। इसे हटाने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा गया है, लेकिन निर्णय नहीं हुआ है। प्रतियोगी परीक्षाओं लिए गणित व अंग्रेजी विषय पढ़ना जरूरी है।

- जयश्री कियावत, आयुक्त, लोक शिक्षण संचालनालय

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020