भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। सरकारी स्कूलों के शिक्षकों के स्थानांतरण के लिए आवेदन प्रक्रिया जारी है। स्थानांतरण प्रक्रिया के लिए 30 सितंबर से शिक्षा पोर्टल खोला गया है। शिक्षक सात अक्टूबर तक आवेदन कर सकेंगे, लेकिन दो दिन से पोर्टल बंद होने से आवेदन नहीं हो रहे हैं। इससे शिक्षक परेशान हो रहे हैं। वहीं इस बार प्रदेश के 19 जिलों में शिक्षक स्थानांतरण लेकर नहीं आ सकेंगे। इन जिलों को पोर्टल पर लाक कर दिया गया है। इस कारण इन जिलों में आने के लिए कोई भी आवेदन नहीं कर सकेगा। इन जिलों से दूसरे जिलों में स्थानांतरण लेकर जा सकते हैं। इसका कारण यह है कि इन जिलों में अतिशेष शिक्षकों की संख्या अधिक है। इसमें बड़े शहरों का नाम शामिल हैं।

हालांकि यह व्यवस्था प्रायमरी शिक्षकों के लिए ही लागू है। माध्यमिक व उच्च माध्यमिक शिक्षक किसी भी जिले में स्थानांतरण के लिए आवेदन कर सकेंगे। दो दिन में पोर्टल पर करीब 3800 से अधिक आवेदन आए हैं।

बता दें कि तीन साल पहले स्कूल शिक्षा विभाग ने स्वैच्छिक आनलाइन स्थानांतरण प्रक्रिया अपनाई थी। इसमें ग्रामीण क्षेत्रों से शिक्षक शहरी क्षेत्रों के स्कूलों में स्थानांतरण लेकर आ गए। अब ऐसे में शहरी क्षेत्रों में 300 से 400 अतिशेष शिक्षकों की संख्या बढ़ गई।

इन जिलों में नहीं ले सकेंगे स्थानांतरण

भोपाल, ग्वालियर, इंदौर, आगर मालवा, बालाघाट, बैतूल, बुरहानपुर, छिंदवाड़ा, धार, खरगोन, नर्मदापुरम, नरसिंहपुर, नीमच, राजगढ़, रतलाम, रीवा, सीहोर, सिवनी, शाजापुर में शिक्षक स्थानांतरण के लिए आवेदन नहीं कर सकेंगे। हालांकि जिले के अंदर स्थानांतरण लिया जा सकता है। वहीं अभी तक अतिशेष शिक्षकों और सीएम राइज स्कूलों के पुराने शिक्षकों को पदस्थापना नहीं मिली है। इस कारण भी पोर्टल पर रिक्त पद प्रदर्शित नहीं हो रहे हैं।

इन्हें मिलेगी प्राथमिकता

स्कूल शिक्षा विभाग की स्थानांतरण नीति में इस बात का भी उल्लेख है कि पहली प्राथमिकता उन शिक्षकों को दी जाएगी, जिनके स्कूल का सौ प्रतिशत परिणाम आया हो। ऐसे स्कूलों के शिक्षकों को मनपसंद स्कूल में पदस्थापना का मौका मिलेगा। साथ ही राष्ट्रपति व राज्य स्तरीय पुरस्कार प्राप्त शिक्षकों को भी स्थानांतरण के लिए पहले मौका दिया जाएगा। साथ ही विषयवार के लिए एक से अधिक आवेदन होने पर अतिशेष शिक्षकों को प्राथमिकता दी जाएगी।

प्रायमरी शिक्षक के लिए स्वीकृत पद- 1,42,069

पदस्थ शिक्षकों की संख्या- 1,35,300

रिक्त पदों की संख्या - 22,465

अतिशेष शिक्षकों की संख्या-15,696

इन 10 जिलों में सबसे अधिक अतिशेष शिक्षक

जिला - अतिशेष

रीवा - 1058

इंदौर - 1053

सतना - 960

छिंदवाड़ा - 668

बालाघाट - 638

राजगढ़ - 628

भोपाल - 614

सिवनी - 497

ग्वालियर - 490

जबलपुर - 482

हर जिले में अतिशेष प्रायमरी शिक्षकों की संख्या अधिक है। ऐसे में कुछ अतिशेष जिलों को लाक किया गया है, ताकि उन जिलों में आने के लिए कोई आवेदन नहीं ना कर सके।

- केके द्विवेदी, संचालक, लोक शिक्षण संचालनालय

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close