भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। मध्यप्रदेश की सबसे बड़ी और पहली अक्षय पात्र की रसोई का शुभारंभ बुधवार को हो गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुबह तकरीबन साढ़े दस बजे मंत्रालय स्‍थित कार्यालय से इसका वर्चुअल शुभारंभ किया। भोपाल की तहसील कोलार (शाहपुरा पुलिस थाने के पास) में अक्षय पात्र फाउंडेशन की प्रदेश की सबसे बड़ी रसोई से हर दिन 50 हजार स्कूली विद्यार्थियों को मध्याह्न भोजन वितरित किया जाएगा। फाउंडेशन द्वारा यह भोजन प्रधानमंत्री पोषण कार्यक्रम के तहत वितरित किया जाएगा। यह कार्यक्रम फाउंडेशन के उपाध्यक्ष चंचलापति दास व डायरेक्टर रवि झुनझुनवाला करेंगे। इस मेगा किचन के उद्घाटन के मौके पर फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष भरतर्षभ दास, मनीष गुलाटी सहित मंत्री, विधायक, महापौर, जिला पंचायत अध्यक्ष सहित अन्य वरिष्ठजन उपस्थित हैं।

रोटी से लेकर दाल, चावल, सब्जी तक मशीन से बनेगी

अक्षय पात्र फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष भरतर्षभ दास ने बताया कि देश में कोई भी बच्चा भूख के कारण शिक्षा से वंचित न रहे। इसी लक्ष्य को ध्यान में रखकर फाउंडेशन द्वारा कार्य किया जा रहा है। यह देशभर में फाउंडेशन की 66वीं रसोई है। अक्षय पात्र फाउंडेशन देशभर में अपनी भोपाल की रसोई के शुरू होते ही हर दिन 22 लाख विद्यार्थियों को 15 राज्यों के 20 हजार से अधिक विद्यालयों में भोजन उपलब्ध कराएगा। अत्याधुनिक रसोई में मशीनों के जरिए ही रोटी,सब्जी, दाल व चावल तैयार किए जाएंगे। एक बार में लगभग एक क्विंटल आटा गूंथा जाएगा एवं चपाती मशीन से 20 हजार रोटियां प्रति घंटे बनाई जा सकेंगी। साथ ही एक बार में एक हजार 200 लीटर दाल व 125 किलो चावल तैयार किया जा सकेगा। भोजन बनाने के लिए रसोई में 150 कर्मचारी काम करेंगे।

12 करोड़ से बनकर तैयार हुई है रसोई

उन्होंने बताया कि एचईजी लिमिटेड ने अक्षय पात्र भोपाल को प्रायोजित किया है। उसने रसोई के निर्माण के लिए 12 करोड़ रुपये खर्च किए हैं और हर साल साढ़े सात करोड़ रुपये की राशि भोजन पर खर्च की जाएगी। एचईजी लिमिटेड वर्ष 1976 से मंडीदीप में कार्यरत है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close