भोपाल (नवदुनिया स्टेट ब्यूरो), MP Police। कोरोना संकट में पुलिसकर्मियों को आनलाइन प्रशिक्षण देने में दक्षता हासिल करने के बाद मध्य प्रदेश पुलिस इसके अगले चरण पर काम शुरू कर चुकी है। अब पुलिसकर्मियों को आनलाइन बैठकों के दौरान दस्तावेजों के आदान-प्रदान में प्रशिक्षित किया जा रहा है। इस ई-वर्किंग (आनलाइन कार्यप्रणाली) में पेपरलेस व्यवस्था सुनिश्चित करने का लक्ष्य है। पेपरलेस व्यवस्था लागू करने के लिए पिछले दिनों पुलिस मुख्यालय में कार्यरत अधिकारियों और कर्मचारियों के एक समूह को प्रशिक्षण दिया गया। इसमें 73 पुलिसकर्मियों को थ्योरी और प्रैक्टिकल के माध्यम से दस्तावेजों को ई-आफिस के तहत उपयोगी बनाने की जानकारी दी गई। अधिकारियों का कहना है इस व्यवस्था का मुख्य उद्देश्य कार्यप्रणाली को पेपरलेस बनाना है। इसका फायदा यह होगा कि दस्तावेजों को रखने के लिए लंबी-चौड़ी जगह से मुक्ति मिलेगी और कहीं भी लाना-ले जाना आसान होगा।

दूर होगी समस्या : कोरोना संकट के बाद आनलाइन बैठकों की संख्या बढ़ गई है। इस दौरान उठने वाले मुद्दों के दस्तावेज दिखाने में दिक्कत आ रही थी। अब पुलिसकर्मियों को इसी दिशा में प्रशिक्षण दिया जा रहा है कि ज्यादा से ज्यादा दस्तावेजों को आनलाइन दिखाया जा सके। पहले चरण में पुलिस मुख्यालय की विभिन्न् शाखाओं में कार्यरत पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षण दिया गया है। आने वाले समय में संभाग और जिलास्तर के अधिकारियों-कर्मचारियों को भी इस बारे में प्रशिक्षित किया जाएगा।

कोरोनाकाल में पुलिस मुख्यालय की ओर से 90 से ज्यादा पाठ्यक्रमों का प्रशिक्षण दिया गया है। इस संबंध में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक चंचल शेखर ने बताया कि दस्तावेजों को डिजिटल करने के पहले दौर का प्रशिक्षण दिया जा चुका है। इससे कागज की बचत होने के साथ विभागीय जानकारियां साझा करने में आसानी होगी।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags