भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा है कि खेल विभाग दो महत्वपूर्ण विषयों पर विशेष रूप से कार्य कर रहा है। राज्य में संचालित विभिन्न खेल अकादमियाें की उचित व्‍यवस्‍था और ग्रामीण परिवेश में खेल प्रतिभाआें को खोजना। यह दोनों महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां जिला खेल अधिकारियों (डीएसओ) की होंगी।

खेलमंत्री ने सोमवार को मंत्रालय में ग्वालियर, भोपाल, विदिशा, गुना, सागर, टीकमगढ़, दमोह, पन्ना, जबलपुर, नरसिंहपुर, बालाघाट, मंडला, इंदौर, खरगौन, झाबुआ, धार, उज्जैन, बैतूल, रतलाम, सीधी, सिंगरौली, रायसेन और सीहोर जिले के जिला खेल अधिकारियों से वर्चुअल चर्चा की रही थी। उन्होंने कहा कि अब हर जिले के अधिकारियों के सहयोग के लिए पर्याप्त युवा समन्वयकों को जोड़ा गया है। उनसे अपेक्षा है कि अपने संबंधित जिले के हर तीन महीने, छह महीने तथा साल भर की गतिविधियों की रिपोर्ट तैयार कर संचालनालय में प्रस्तुत करें।

फिट इंडिया और खेलो इंडिया पर हो फोकस

खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने निर्देश दिए कि हर जिले में फिट इंडिया कैंपेन के तहत सायक्लोथान, मैराथन, वॉकथान और योग की प्रतियोगिताएँ आयोजित कर आम नागरिकों को स्वस्थ्य रहने का संदेश पहुँचाने में सक्रिय भूमिका निभाएं। हर युवा समन्वयक अपने क्षेत्र के 50 से 60 आयु वर्ष के नागरिकों को सम्मिलित कर योग, स्ट्रेचिंग आदि के लिए प्रोत्साहित करें।

विधायक कप फिर से शुरू होगा : खेलमंत्री ने कहा कि विधायक कप पुनः प्रारंभ किया जाएगा। सभी जिला खेल अधिकारियों को अपने क्षेत्र में प्रचलित अथवा विधायक द्वारा चाहे गए खेल की रूपरेखा तैयार कर संचालक से समन्वय स्थापित करने के निर्देश दिए।

नुक्कड नाटक के माध्यम से नशा मुक्ति अभियान चलाएं : युवाओं को नशे की लत से दूर रखना सामाजिक जिम्मेदारी है। जिला खेल अधिकारी नुक्कड नाटक के माध्यम से अपने क्षेत्र में युवाओं को नशे के बुरे परिणामों से अवगत कराए।

मलखम्ब फीडर सेंटर प्रतियोगिता मार्च में : मार्च में प्रदेश के 11 मलखम्ब फीडर सेंटर के मध्य इंटर फीडर सेंटर प्रतियोगिता आयोजित किए जाएंगे।

टैलेंट सर्च की तैयारी अभी से करें

खेल संचालक पवन कुमार जैन ने जिला खेल अधिकारियों को निर्देश दिए कि अप्रैल, 2021 में होने वाले टैलेंट सर्च के लिए अभी से तैयारी करें। ग्राउंड रख-रखाव का सुपरविजन करें। प्रशिक्षक खिलाड़ियों को समय पर खेल सामग्री उपलब्ध कराएं। उन्होंने कहा कि जिन जिलों में स्टेडियम बने हैं और उनके रख-रखाव की व्यवस्था नहीं है, तो उसकी जानकारी तत्काल संचालनालय को भेजी जाए।

Posted By: Lalit Katariya

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags