पहले चरण में 11 नगर निगम, 36 नगर पालिका और 86 नगर परिषद के लिए होगा मतदान

MP Urban Body Elections 2022: भोपाल (राज्य ब्यूरो)। मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव के दो चरण पूरे होने के बाद अब नगरीय निकाय चुनाव के पहले चरण का मतदान छह जुलाई को कराया जाएगा। इसमें 11 नगर निगम, 36 नगर पालिका और 86 नगर परिषद के लिए 13 हजार 148 मतदान केंद्रों पर मतदाता सुबह सात से शाम पांच बजे तक मतदान कर सकेंगे। मतदान इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के माध्यम से होगा। पहले चरण के चुनाव के लिए प्रचार सोमवार को शाम पांच बजे से थम जाएगा।

राज्य निर्वाचन आयोग के अधिकारियों ने बताया कि पहले चरण में कुल 133 नगरीय निकायों के लिए महापौर और पार्षद पद के लिए मतदान होगा। आलीराजपुर, मंडला और डिंडौरी में नगरीय निकायों का कार्यकाल पूर्ण नहीं होने के कारण आम चुनाव के साथ चुनाव नहीं कराए जा रहे हैं। 11 जिलों (इंदौर, खरगोन, बुरहानपुर, ग्वालियर, सिंगरौली, शहडोल, हरदा, सीधी, नरसिंहपुर, झाबुआ, बड़वानी) में चुनाव प्रक्रिया पहले चरण में ही पूरी हो जाएगी।

30,761 ईवीएम का होगा उपयोग

नगरीय निकाय चुनाव के लिए प्रदेश में 55 हजार ईवीएम उपलब्ध हैं। इनमें से 30 हजार 761 का उपयोग होगा। नगर निगम के लिए महापौर और पार्षद पद के लिए नोटा सहित 15 या उससे कम प्रत्याशी होने पर एक कंट्रोल यूनिट और दो बैलेट यूनिट का उपयोग किया जाएगा। 15 से अधिक प्रत्याशी होने पर एक अतिरिक्त बैलेट यूनिट लगाई जाएगी। इंदौर और भोपाल में प्रत्येक वार्ड के लिए पांच ईवीएम तथा जबलपुर और ग्वालियर के प्रत्येक वार्ड के लिए तीन ईवीएम आरक्षित रखी गई हैं। बाकी नगर निगम और नगर पालिका में प्रत्येक वार्ड के लिए दो, नगर परिषद के प्रत्येक वार्ड के लिए एक ईवीएम आरक्षित रखी गई है ताकि मतदान में किसी प्रकार का कोई परेशानी न आए।

मतदाता को दोनों वोट डालने के लिए नहीं किया जा सकता बाध्य

राज्य निर्वाचन आयोग ने स्पष्ट किया है कि मतदाताओं को महापौर और पार्षद पद के लिए वोट डालने बाध्य नहीं किया जा सकता है। मतदाता को यह अवश्य बताया जाएगा कि मशीन में नोटा का विकल्प दिया गया है, वह यदि उसे कोई प्रत्याशी पसंद नहीं है तो उसका उपयोग कर सकता है। यह भी मतदाता की इच्छा पर निर्भर करेगा कि वह महापौर या पार्षद में से किसी को वोट देने के बाद नोटा का उपयोग करना चाहता है या नहीं। ऐसी स्थिति में कंट्रोल यूनिट प्रभारी मशीन को बंद करके फिर से प्रारंभ करेगा। साथ ही पीठसीन अधिकारी मतदाता रजिस्टर में संबंधित मतदाता के नाम के आगी इस आशय की सूचना दर्ज करेगा। इसके बाद अगला मतदाता मतदान कर सकेगा। पहले महापौर पद के लिए मतदान होगा। कुछ देर बाद बीप की आवाज आएगी और मतदाता दूसरा वोट डालेगा। लंबी बीप आने पर मतदान की प्रक्रिया पूरी होगी।

यहां होगा महापौर का चुनाव

भोपाल, इंदौर, खंडवा, बुरहानपुर, ग्वालियर, जबलपुर, छिंदवाड़ा, उज्जैन, सागर, सतना, सिंगरौली ।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close