भोपाल, MP Vidhan Sabha। भाजपा सरकार की संविधान, अनुसूचित जाति, किसान, महंगाई और बेरोजगार विरोधी नीतियों के खिलाफ प्रदेश कांग्रेस का अनुसूचित जाति विभाग ने विधानसभा में गांधी प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया। कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग विभाग का राज्यस्तरीय कार्यक्रम प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में होगा। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ, महाराष्ट्र के मंत्री और पार्टी के अनुसूचित जाति विभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ.नितिन राउत हिस्सा लेंगे। प्रदेश कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग के अध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी ने कहा कि प्रदेश में अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के व्यक्तियों पर अत्याचार की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। सरकार के स्तर पर कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है। महंगाई और बेरोजगारी से सभी परेशान हैं। इसके मद्देनजर सोमवार नौ अगस्त विश्व आदिवासी एवं भारत छोड़ो आंदोलन दिवस पर प्रदेशस्तरीय कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा हैं।

कांग्रेस विधायक दल की बैठक में रविवार को हुई यह चर्चा

विधानसभा का मानसून सत्र सरकार ने जानबूझकर चार दिन का बुलाया है। मुद्दे बहुत हैं और हमें सबको उठाना है। बाढ़, महंगाई, कोरोना के दौरान कुप्रबंधन, जहरीली शराब से मौत, अनुसूचित जाति वर्ग पर अत्याचार जैसे कई मुद्दे हैं, जिन पर सरकार को घेरकर उनसे जवाब मांगा जाएगा। मैंने ग्वालियर-चंबल संभाग के बाढ़ग्रस्त इलाकों का दौरा करके जो स्थिति देखी है, वो भयावह है। मौसम विभाग की चेतावनी के बाद भी सरकार ने कोई इंतजाम नहीं किए। जहरीली शराब से लगातार मौत के मामले सामने आ रहे हैं। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने रविवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक में कही। उन्होंने कहा कि सरकार बाढ़ राहत कार्य के बढ़-चढ़कर आंकड़े बताने में लगी है। तबादला हो या अन्य कार्य, जमकर वसूली हो रही है।

भाजपा सरकार आदिवासी विरोधी है इसलिए हमारी सरकार ने नौ अगस्त का जो सार्वजनिक अवकाश घोषित किया था उसे निरस्त कर दिया। प्रदेश में माफिया के हौसले बुलंद हैं। लगातार जहरीली शराब से लोगों की मौत हो रही है पर कार्रवाई के नाम पर दिखावा हो रहा है। देवास के नेमावर में पांच लोगों को मारकर जमीन में गाड़ दिया। महिलाओं के साथ ज्यादती की घटनाएं आए दिन हो रही हैं। कोरोना से वास्तव में कितनी मृत्यु हुई, इसकी जानकारी आज तक सार्वजनिक नहीं की है। सरकार ने जनहित के मुद्दों से चर्चा से बचना चाहती है। हम सदन से सड़क तक पूरी ताकत से जनता की लड़ाई लड़ेंगे। इस दौरान कमलेश्वर पटेल ने कहा कि सरकार की कमजोर पैरवी के कारण पिछड़ा वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण का लाभ नहीं मिला। इस पर स्थगन के माध्यम से चर्चा कराई जाए।

वहीं, हीरालाल अलावा ने विश्व आदिवासी दिवस पर अवकाश को निरस्त करने व 89 विकासखंड को दी जानी वाली राशि रोकने तो श्योपुर से विधायक बाबू जंडेल ने बाढ़ के मुद्दे पर चर्चा कराने की बात रखी। पूर्व मंत्री डॉ.विजयलक्ष्मी साधौ और पीसी शर्मा ने कहा कि सरकार सदन में चर्चा से भागने की कोशिश करेगी पर हमें मुद्दों को स्थगन, ध्यानाकर्षण सहित अन्य माध्यमों से उठाकर चर्चा करानी है। बैठक में कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव और प्रदेश के सहप्रभारी सुधांशु त्रिपाठी, विधायक दल के मुख्य सचेतक डॉ. गोविंद सिंह, पूर्व विधानसभा अध्यध एनपी प्रजापति, सज्जन सिंह वर्मा सहित प्रदेश पदाधिकारी मौजूद थे।

सिंधिया को पहले ही चेता दिया था हार रहे हो

बैठक में कमल नाथ ने कहा कि मैं खंडवा संसदीय क्षेत्र सहित पृथ्वीपुर, जोबट और रैगांव विधानसभा के उपचुनाव के लिए सर्वे करा रहा हूं। मैंने 2023 की तैयारी शुरू कर दी है। सर्वे करा रहा हूं। मैंने लोकसभा चुनाव के समय सर्वे के आधार पर ज्योतिरादित्य सिंधिया को चार दिन पहले चेता दिया था कि हार रहे हो।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local