MP Monsoon Update: भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र गहरे कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो गया है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक इस सिस्टम के झारखंड से बिहार की तरफ आगे बढ़ने की संभावना है। इस वजह से इसके प्रभाव से मध्य प्रदेश में अच्छी बारिश होने के आसार कम हैं। हालांकि मौजूदा स्थिति को देखते हुए अभी राजधानी सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में रुक-रुक कर बौछारें पड़ने का सिलसिला बना रहेगा। उधर, बुधवार को सुबह आठ बजे तक पिछले 24 घंटें के दौरान तक सतना में 82.7, सिवनी में 72.6, श्योपुरकलां में 64, मलाजखंड में 50, छिंदवाड़ा में 26.2, भोपाल शहर में 24.9, रीवा में 23.4, भोपाल एयरपोर्ट क्षेत्र में 21.8, पचमढ़ी में 20, ग्वालियर में 14.2, दतिया, खजुराहो में 13.8, गुना में 10, धार में 8.4, मंडला में आठ, बैतूल में 7.4, उमरिया में सात, होशंगाबाद में 3.8, रायसेन में 3.6, दमोह में तीन, इंदौर में 2.7, शाजापुर में 2.6, रतलाम में 2.6, खरगोन, टीकमगढ़ में दो मिलीमीटर बारिश हुई।

मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र वर्तमान में गहरे कम दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित हो गया है, लेकिन इस सिस्टम से मप्र में अच्छी बारिश मिलने की उम्मीद कम है। दरअसल यह सिस्टम पश्चिमी दिशा में आगे बढ़ेगा। इस वजह से यह झारखंड से होकर बिहार की तरफ आगे बढ़ेगा। उधर वर्तमान में दक्षिण उत्तर प्रदेश के मध्य में हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात मौजूद है। मानसून ट्रफ भी अपनी सामान्य स्थिति में बरकरार रहते हुए उत्तर प्रदेश से होकर गुजर रहा है। हवाओं का रुख भी लगातार दक्षिण-पश्चिमी बना हुआ है। इस वजह से बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से लगातार नमी आने का सिलसिला बना हुआ है। वातावरण में भी बड़े पैमाने में नमी मौजूद है। इस वजह से अभी रुक-रुककर बौछारें पड़ने का दौर चलता रहेगा। हालांकि बुधवार-गुरुवार को जबलपुर, शहडोल, ग्वालियर, चंबल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं तेज बौछारें भी पड़ सकती हैं।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local