MP Weather update :भाेपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। अलग-अलग स्थानाें पर पांच मौसम प्रणालियां सक्रिय हैं। मानसून ट्रफ भी सागर से हाेकर गुजर रहा है। इसके चलते राजधानी सहित मध्य प्रदेश के विभिन्न जिलाें में रुक-रुककर वर्षा हाेने का सिलसिला बना हुआ है। इसी क्रम में शनिवार काे सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक ग्वालियर में 54.6, मंडला में छह, इंदौर में 5.2, बैतूल में पांच, सागर में एक, दमाेह में एक, सतना में 0.8, भाेपाल में 0.4 मिलीमीटर वर्षा हुई। मौसम विज्ञानियाें के मुताबिक रविवार काे भाेपाल, नर्मदापुरम, जबलपुर, सागर, इंदौर, उज्जैन संभागाें के जिलाें में कहीं-कहीं भारी वर्षा हाेने के आसार हैं।

मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक मानसून ट्रफ के मध्य प्रदेश से गुजरने के कारण भाेपाल, इंदौर संभागाें के जिलाें में अच्छी वर्षा हाे रही है। वर्तमान में आंध्रा तट पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात के रविवार को कम दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित हाेने की संभावना है। इस मौसम प्रणाली के आगे बढ़ने पर साेमवार-मंगलवार काे मप्र के अधिकतर जिलाें में तेज बौछारें पड़ने का सिलसिला शुरू हाे सकता है। बता दें कि इस सीजन में शनिवार सुबह साढ़े आठ बजे तक मप्र में कुल 545.6 मिमी. वर्षा हाे चुकी है। यह सामान्य (519.8 मिमी.) की तुलना में पांच प्रतिशत अधिक है। मप्र के 12 जिलाें में अभी सामान्य से कम वर्षा हुई है।

ये मौसम प्रणालियां हैं सक्रिय

मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में पाकिस्तान के मध्य में एक पश्चिमी विक्षाेभ हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात के रूप में बना हुआ है। मानसून ट्रफ जेसलमेर, काेटा, सागर, पेंड्रा राेड, बालासाेर से हाेकर बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। आंध्र प्रदेश के तट पर हवा के ऊपरी भाग में एक शक्तिशाली चक्रवात बना हुआ है। मध्य राजस्थान पर भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। दक्षिणी महाराष्ट्र से उत्तरी केरल तक अपतटीय ट्रफ बना हुआ है। आंध्रा के तट पर बने चक्रवात के रविवार काे कम दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित हाेने की संभावना है। इन मौसम प्रणालियाें के असर से रविवार काे भाेपाल, जबलपुर, नर्मदापुरम, इंदौर, उज्जैन संभागाें के जिलाें में रुक-रुककर वर्षा हाेने का सिलसिला बना रहने की संभावना है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close