MP Weather Update : भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। गुरूवार को मध्यप्रदेश में दाखिल होने के बाद दक्षिण-पश्चिम मानसून धीरे-धीरे आगे बढने लगा है। शुक्रवार को मानसून पूरे जबलपुर, होशंगाबाद संभाग के साथ भोपाल, इंदौर, शहडोल, सागर संभाग के कुछ जिलों में आ चुका है। मानसून की उत्तरी सीमा दीव, सूरत, नादूरबार, रायसेन, दमोह, उमरिया, पेंड्रा रोड, बोलांगीर, पुरी से होकर गुजर रही है। मानसून के सक्रिय होने से झमाझम का दौर भी शुरू हो गया है। इसी क्रम में शुक्रवार को सुबह सा़ढे आठ बजे से शाम सा़ढे पांच बजे तक रायसेन में 41, भोपाल शहर में 21.2, पचमढ;ी में 21.0, भोपाल एयरपोर्ट पर 18.4, बैतूल, सिवनी में 14.0, मलाजखंड में 9, छिंदवाड़ा, होशंगाबाद में 3, दमोह में 1.0 मिलीमीटर बरसात हुई। मौसम विज्ञानियों ने भोपाल, होशंगाबाद, जबलपुर, रीवा, शहडोल, उज्जैन, ग्वालियर, एवं सागर संभाग के जिलों में तेेज बौछारें पडने की संभावना जताई है।

मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को राजधानी का अधिकतम तापमान 36.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जो सामान्य से दो डिग्रीसे. कम रहा। न्यूनतम तापमान 25.0 डिग्रीसे. रिकार्ड किया गया। की वरिष्ठ मौसम विज्ञानी ममता यादव ने बताया कि वर्तमान में मानसून के आगे बढ;ने की परिस्ितियां काफी अनुकूल हैं। शनिवार को भोपाल में भी मानसून के प्रवेश करने की संभावना है। तीन-चार दिन में पूरे प्रदेश में मानसून छा सकता है।

70 किमी. की रफ्तार से चली हवा, 800 मीटर रह गई थी दृश्यता

मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि राजधानी में सुबह से ही बादल छाए हुए थे। दोपहर के समय बादल छंटने से धूप निकली। शाम के समय एक बार फिर घने बादल छा गए। साथ ही करीब 70 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चलीं और तेज बौछारें पड;ीं। इस दौरान एयरपोर्ट पर दृश्यता 800 मीटर तक रह गई थी। तेज बौछारें पड;ने से वातावरण में ठंडक घुल गई। इससे उमस से राहत मिली।

तेज बौछारें पड;ने की संभावना

पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में अरब सागर में एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। पाक्स्तिान पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। पंजाब से लेकर बंगाल की खाड़ी तक एक ट्रफ बना हुआ है। उधर बंगाल की खाड़ी में उड;ीसा और पश्चिम बंगाल के तट पर एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इस सिस्टम के शनिवार को गहरा कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील होकर आगे बढ;ने की संभावना है। इस सिस्टम के आगे बढ;ने के साथ ही मप्र में अनेक स्थानों पर तेज बौछारें पड;ने का सिलसिला शुरू होने के आसार हैं।

Posted By: Lalit Katariya

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags