MP Weather Update :भाेपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। बंगाल की खाड़ी अौर उसके अासपास बने चक्रवात के असर से मध्य प्रदेश के अधिकतर जिलाें में रुक–रुककर वर्षा हाे रही है। इसी क्रम में गुरुवार सुबह साढ़े अाठ बजे तक पिछले 24 घंटाें के दौरान सागर में 58.5, सतना में 56.8, नर्मदापुरम में 52.2, बैतूल में 50, खजुराहाे में 49, रायसेन में 43.6, नौगांव में 37.2, भाेपाल में 33.7, पचमढ़ी में 12.8, दमाेह में 12, रायसेन में सात, खंडवा में पांच, रतलाम में चार, उज्जैन में दाे, छिंदवाड़ा में 1.2, इंदौर में 0.2 मिलीमीटर वर्षा हुर्इ। गुना एवं दतिया में बूंदाबांदी हुर्इ। मौसम विज्ञानियाें के मुताबिक गुरुवार काे सागर संभाग के जिलाें एवं गुना, राजगढ़, शाजापुर, अागर, नर्मदापुरम, शिवपुरी, ग्वालियर जिलाें में कहीं–कहीं भारी वर्षा हाे सकती है। भाेपाल, इंदौर, उज्जैन, रीवा, शहडाेल, जबलपुर, संभागाें के जिलाें रुक–रुककर वर्षा का सिलसिला बना रहेगा।

राजधानी में मंगलवार रात काे रुक–रुककर कर वर्षा का सिलसिला शुरू हाे गया था। बुधवार काे भी वर्षा हाेती रही। उधर गुरुवार सुबह तक शहर में एक इंच से अधिक वर्षा हाे चुकी थी। हालांंकि सुबह से मौसम खुलने लगा है। बीच–बीच में धूप भी निकल रही है। मौसम विज्ञानियाें का कहना है कि वातावरण में काफी नमी मौजूद है। जिसके चलते दाेपहर के बाद कहीं–कहीं वर्षा हाे सकती है। बादल बने रहने के कारण गुरुवार काे अधिकतम तापमान में कमी भी अाएगी। मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक वर्तमान में बंगाल की खाड़ी एवं उससे लगे अांध्रा काेस्ट पर हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना हुअा है। इस चक्रवात से लेकर पश्चिमी मध्य प्रदेश से हाेकर उत्तराखंड तक एक ट्रफ लाइन बनी हुर्इ है। उत्तराखंड पर एक पश्चिमी विक्षाेभ भी ट्रफ के रूप में बना हुअा है। मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि इन तीन मौसम प्रणालियाें के असर से पूरे मप्र में रुक–रुककर वर्षा हाे रही है। गुरुवार काे भी शाम के समय राजधानी में वर्षा हाेने की संभावना है। हालांकि वातावरण में ठंडक हाेने के कारण अब गरज–चमक हाेने की गुंजाइश कम है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close