MP Weather Update: भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इस सिस्टम के बुधवार को गहरा कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील होने की संभावना है। पूर्वी उत्तरप्रदेश पर हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना हुआ है। मानसून ट्रफ भी उत्तरप्रदेश से होकर गुजर रहा है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अभी चार-पांच दिन तक पूरे प्रदेश में रुक-रुक जारी रहने की संभावना है। बुधवार-गुरुवार को सागर, रीवा संभाग के जिलों में कहीं-कहीं भारी वर्षा होने के आसार हैं।

मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक मंगलवार को सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक श्यौपुरकला में 64, मलाजखंड में 39, सतना में 33, भोपाल शहर में 21.8, भोपाल एयरपोर्ट पर 18.2, ग्वालियर में 14.1, छिंदवाड़ा में 14, शाजापुर, पचमढ़ी में 11, गुना में 10, मंडला में छह, रीवा में पांच, धार, उमरिया में चार, सीधी में तीन, रायसेन, होशंगाबाद, दमोह में दो, इंदौर में 0.2 मिलीमीटर बारिश हुई। मंगलवार को राजधानी का अधिकतम तापमान 24.9 डिग्रीसेल्सियस दर्ज किया गया। जो सामान्य से चार डिग्रीसे. कम रहा। साथ ही सोमवार के अधिकतम तापमान (26.1 डिग्रीसे.) की तुलना में 1.2 डिग्रीसे.कम रंहा। न्यूनतम तापमान 23.2 डिग्रीसे. रिकार्ड किया गया। मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि बुधवार को श्यौपुरकला, मुरैना, भिंड, दतिया, गुना, ग्वालियर, शिवपुरी, अशोकनगर जिलों में तेज बौछारें पड़ सकती हैं। रीवा, सागर, जबलपुर, शहडोल, संभाग के जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन, इंदौर संभाग के जिलों में अधिकांश स्थानों पर बौछारें पड़ने के आसार हैं।

ये वेदर सिस्टम हैं सक्रिय

मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। मानसून ट्रफ अपनी सामान्य स्थिति में है और उत्तर प्रदेश से होकर बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। पूर्वी उप्र पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। दक्षिण-पूर्वी राजस्थान पर एक चक्रवात बना हुआ है। उत्तरी पाकिस्तान पर भी एक चक्रवात बना हुआ है। इन पांच वेदर सिस्टम के सक्रिय रहने से प्रदेश में बारिश का सिलसिला अभी चार-पांच दिन तक बना रहने की संभावना है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local