ओरछा में मप्र टूरिज्म की ओर से मार्च में आयोजित करेगा कला और सांस्कृतिक महोत्सव

भोपाल। नवदुनिया रिपोर्टर

मध्य प्रदेश को देश में प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में प्रमोट करने के मौजूदा प्रयासों के तहत राज्य पर्यटन बोर्ड ने नमस्ते ओरछा महोत्सव की घोषणा की है। राज्य की समृद्घ सांस्कृतिक विरासत को प्रदर्शित करने वाला यह महोत्सव 6-8 मार्च 2020 तक ऐतिहासिक शहर ओरछा में आयोजित किया जाएगा। मप्र शासन के मुख्य सचिव सुधी रंजन मोहंती ने भोपाल में ट्रेवल और टूरिज्म इंडस्ट्री के लोगों और वरिष्ठ अधिकारियों की मौजूदगी में बुधवार को मिंटो हॉल में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में इस महोत्सव की घोषणा की।

तीन दिन चलने वाले इस महोत्सव के तहत पूरे मप्र के दर्शन ओरछा में होंगे और इस दौरान संगीत, नृत्य, विरासत भ्रमण, कार्यशालाएं, स्थानीय व्यंजन, कलाओं और हस्तशिल्प की झांकी देखने को मिलेगी। जानीमानी सितार वादक मंजू मेहता महोत्सव के दौरान अपनी प्रस्तुति देंगी। साथ प्रदेश के अन्य कलाकारों को भी आमंत्रित किया जाएगा। महोत्सव के दौरान पर्यटकों के लिए ग्राम और फार्म पर ठहरने की सुविधा दी जाएगी,ताकि ग्रामीण उद्यमिता को बढ़ावा दिया जा सके। इस दौरान फोटोग्राफी, फिल्म मेकिंग, परफॉर्मिंग आर्ट्स के लिए कार्यशालाएं और साइट विजिट भी होंगी।

गोल्डन ट्रैंगल है ओरछाः मुख्य सचिव

इस अवसर पर मुख्य सचिव ने बताया कि ओरछा को राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ विरासत शहर के पुरस्कार से नवाजा गया है और यह यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स की सूची में है। ओरछा में भारत आने वाले पर्यटकों के लिए गोल्डन ट्रैंगल के रूप में शामिल होने की पूरी क्षमता है। इस हेरिटेज टाउन में हर साल ऐसे एक महोत्सव का विचार है। संस्कृतिविभाग के प्रमुख सचिव पंकज राग ने कहा कि नमस्ते ओरछा के जरिए राज्य की विविध संस्कृतियां एक मंच पर आएंगी और एक सुंदर प्रदर्शन के साथ ही महोत्सव के प्रतिभागियों को मप्र की छिपी हुई धरोहर से परिचित करवाएंगी। पर्यटन सचिव और मप्र पर्यटन बोर्ड के मैनेजिंग डायरेक्टर फैज अहमद किदवई ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से मात्र 500 किमी की दूरी पर स्थित ओरछा वीकेंड पर सैर के लिए बेहतरीन पर्यटन स्थल है। दिल्ली के लोगों को आकर्षित करना हमारा मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने बताया कि ओरछा के लिए सड़क और रेल मार्ग को और सुगम बनाया जा रहा है।

ओरछा के बारे में

ओरछा में किले, अनोखा राम राजा मंदिर है ,जहां राम की पूजा भगवान और राजा दोनों रूप में की जाती है। यहां पर एक भव्य चतुर्भुज मंदिर भी है जो एक स्थापत्य विरासत के रूप में मंदिर, किला और महल तीनों का संगम है। शाही महल, राजा महल और शीष महल हैं जो अब हेरिटेज होटल में तब्दील हो चुके हैं। जहांगीर महल और फूल बाग स्थापत्य कला का बेहतरीन नमूना है। यह स्थल डेस्टिनेशन वेडिंग में भी नंबर वन है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना