Navratri 2022 : भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। नए शहर के टीन शेड इलाका का मां वैष्णो धाम आदर्श नौ दुर्गा मंदिर आस्था का प्रमुख केंद्र हैं। मंदिर में शारदीय, चैत्र व गप्त नवरात्र श्रद्धाभाव से मनाए जाते हैं। श्रद्धालुओं का तांता लगता है। नवरात्र में सुबह चार बजे नौ माताओं का श्रृंगार किया जाता है। इसके बाद श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए गर्भगृह खोला जाता है। यह मंदिर शहर का एक मात्र ऐसा मंदिर है, जिसमें मां दुर्गा नौ स्वरूपों में विराजमान हैं...

यह है मंदिर का इतिहास

1976 से दुर्गा उत्सव मनाया जाता था। फिर समिति ने 1986 में एक छोटा मंदिर बनाकर डेढ़ फीट की मातारानी की मूर्ति विराजित की गई। मंदिर का नाम रखा गया आदर्श दुर्गा मंदिर। 1998 में मंदिर का जीर्णोंद्वार हुआ। नौ देवी की स्थापना की गई। 75 फीट का शिखर बनाया गया। 2014 में लक्ष्मीनारायण, लालबाग के राजा, राधा-कृष्ण, राम दरबार, पशुपतिनाथ, हनुमान जी की स्थापना हुई। अब मंदिर मां वैष्णो धाम नौ दुर्गा मंदिर के नाम से जाना जाता है।

सुबह चार बजे से होगा शृंगार

मंदिर के व्यवस्थापक चंद्रशेखर तिवारी ने बताया कि सुबह चार बजे से मंदिर में मातारानी के पहले स्वरूप का श्रृंगार किया जाएगा। इसके बाद गर्भगृह खेाला जाएगा। रात 11 बजे तक श्रद्धालु मातारानी के दर्शन कर सकेंगे। दो साल बाद नवरात्र पर मातारानी की पूजा-अर्चना की जाएगी।

1008 नाम से सहस्त्रार्चन किया जाएगा

मंदिर में नवरात्र में श्रद्धालुओं मातारानी के नौ रूपों के दर्शन कर सकेंगे। पूरे नौ दिनों तक 21 किलो पारे के श्री यंत्र का मां दुर्गा के 1008 नाम से सहस्त्रार्चन किया जाएगा। मंदिर में बड़ी संख्या में श्रद्धालु आएंगे। इसके लिए मंदिर प्रांगण में श्रद्धालुओं के दर्शन व बैठने की व्यवस्था की गई है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close